Home धार जिला धार - अपहरण कर दुष्कर्म करने वाले आरोपी को न्यायालय ने सश्रम...

धार – अपहरण कर दुष्कर्म करने वाले आरोपी को न्यायालय ने सश्रम कारावास के किया दंडित

धार। विशेष सत्र न्यायाधीश पाक्सो धार श्रीमती प्रेमा साहू द्वारा निर्णय दिनांक 03.09.2021 पारित करते हुए आरोपी दिलीप पिता रामलाल उम्र 22 वर्ष निवासी नावदा थाना बड़नगर जिला उज्जैन को अपहरण कर बलात्कार करने वाले व जान से मार देने वाले आरोपी को धारा 366 में 7 वर्ष सश्रम कारावास व 5 हजार रूपये अर्थदण्डक व 376(2) (N) भा.द.सं. में 10 वर्ष का सश्रम कारावास व 20 हजार अर्थदण्डव धारा 506(2) में 3 वर्ष सश्रम कारावास व 3 हजार रुपये अर्थदण्ड से दण्डित किया गया तथा अर्थदण्ड अदा न करने पर 3 माह का अतिरिक्त सश्रम कारावास से दण्डित किया जायेगा। मीडिया प्रभारी श्रीमती अर्चना दांगी द्वारा बताया गया कि घटना दिनांक 11.05.2020 को फरियादी ने रिपोर्ट थाना सादलपुर में दर्ज करवाई दिनांक 10.05.2020 को मै व मेरा परिवार रात्रि में करीब 10:00 बजे सो गये थे मेरी पत्नि व बच्चेस अंदर सोये थे व मै बाहर सोया था रात्रि करीब 11 बजे आंधी चलने के कारण में उठा व घर के अंदर गया तो देखा की मेरी चौथे नंबरी की लडकी (अभियोक्त्री) को पीछे का दरवाजा मे साक्कंल बाहर से लगी थी जिसकी उम्र 17 साल 07 माह की कक्षा 08 वी तक पढी लिखी है। मेरी नाबालिग लड़की को कोई अज्ञात बदमाश बहला फुँसलाकर ले गया है। मैने यह बात मेरे भाईयो को बतायी व आस पास व रिश्तेीदारो मे तलाश की कोई पता नहीं चला बाद आज मैं अपने जमाई को साथ लेकर थाना आया और रिपोर्ट करवाई। प्रकरण मे दिनांक 08.06.2020 को पीडिता को दस्तउयाब किया गया पीडिता ने कथनों में बताया कि अरोपी दिलीप पिता रामलाल सिंगार मुझे शादी का झांसा देकर बहलाफुसला कर ले गया था तथा दिलीप ने हर रात मेरे साथ मेरी मर्जी के विरूद्ध जोर जबरजस्ती से डरा धमका कर गलत काम (बलात्कार ) किया। तथा पीडिता का मेडिकल कराया गया। विवेचक द्वारा घटना के संबंध में विस्तार से अनुसंधान किया गया और सभी आवश्यरक साक्ष्या जुटाकर चालान न्यायालय में प्रस्तुत किया गया था। विशेष सत्र न्या यालय के समक्ष विचारण के दौरान श्रीमती आरती अग्रवाल (विशेष लोक अभियोजक अधिकारी) शासन की ओर से पैरवी की गई जिन्होरने अभियोक्त्री, विशेषज्ञ, साक्षी, विवेचक की साक्ष्य प्रस्तुयत की इस प्रकार सम्पूर्ण साक्ष्य आरोपी के विरूद्ध अभियोजन अधिकारी द्वारा प्रमाणित किए गए थे। विशेष न्यायालय ने अभियोजन द्वारा साक्ष्यो की प्रमाणिता के आधार पर आरोपी को सश्रम कारावास की सजा से दण्डित किया।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments

error: Content is protected !!