Home क्राइम सरदारपुर - पुलिस को मिली सफलता, दोपहिया वाहन चुराकर बेचेन के मामले...

सरदारपुर – पुलिस को मिली सफलता, दोपहिया वाहन चुराकर बेचेन के मामले में मुख्य आरोपी सहित 6 को किया गिरफ्तार, 8 दोपहिया वाहन किए जप्त

सरदारपुर। पुलिस ने दोपहिया वाहन चुराकर बेचने के मामले में मुख्य आरोपी सहित 6 को गिरफ्तार कर उनसे 8 दुपहिया वाहन जप्त किए है। सरदारपुर थाना प्रभारी अभिनव शुक्ला ने बताया कि जिला पुलिस अधीक्षक आदित्य प्रताप सिंह, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक देवेंद्र पाटीदार तथा सरदारपुर एसडीओपी आरएस मेड़ा के निर्देशन में वाहन चोर गिरोह को पकड़ने के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे थे। इसी के तहत 1 अगस्त को ढाकनबारी- रिंगनोद रोड़ पर वाहन चैकिंग के दौरान आरोपी राजू पिता केकड़िया भील उम्र 19 वर्ष निवासी कदवाल बोरी अलीराजपुर को से केटीएम मोटरसाइकिल क्रमांक एमपी 09 वीआर 6078 कीमत 1 लाख रुपये जप्त की। आरोपी से सख्ती से पूछताछ करने पर बताया कि आरोपी दोपहिया वाहन चुराकर उन्हें सस्ते दामों पर बेच देता था। आरोपी से वाहन खरीदने वाले आरोपी सूरज पिता संतोष कुमावत उम्र 21 साल निवासी पटेल कॉलोनी सरदारपुर से हीरो होंडा स्पलेंडर पीएलएस  मोटरसाइकिल क्रमांक एमपी 11 बीसी 9905, आरोपी मुस्तफा पिता रईस मंसूरी उम्र 19 वर्ष साल निवासी सरदारपुर से बिना नम्बर की हीरो स्प्लेंडर प्रो मोटरसाइकिल, आरोपी लखन पिता संतोष उम्र 22 वर्ष निवासी पटेल कॉलोनी सरदारपुर से बिना नम्बर की एक बजाज पल्सर, एक हीरो होंडा सीडी डीलक्स तथा एक हीरो होंडा डीलक्स मोटरसाइकिल, आरोपी सौरभ पिता दिनेश भील उम्र 19 वर्ष निवासी भोज नगर सर्किट हाउस रोड़ सरदारपुर से एक सुजुकी जिप्सर बिना नम्बर की तथा आरोपी सुरेश पिता मदनसिंह भील उम्र 20 वर्ष निवासी गोविंदपुरा सरदारपुर से बिना नम्बर की हीरो स्ट्रीम मोटरसाइकिल जप्त की तथा आरोपियों को गिरफ्तार किया। सरदारपुर थाना के उपनिरीक्षक केएल पाटीदार ने बताया कि मुख्य आरोपी राजू पिता केकड़िया भील ने केटीएम बाइक इंदौर से चुराई थी। जिसका प्रकरण बाणगंगा थाने में दर्ज है। केटीएम बाइक बाणगंगा पुलिस के सुपुर्द की है। आरोपी राजू दुपहिया वाहन चुराकर सस्ते दामों पर बेच देता था। सरदारपुर थाने के सिलसिला क्रमांक 3/21 धारा 41 (1), (2) सीआरपीसी एवं 379 आईपीसी तथा अपराध क्रमांक 434/21 धारा 379 दोनों प्रकरणों में उक्त वाहन जप्त कर आरोपियों को मंगलवार को न्यायालय में पेश कर जेल भेजा गया। आरोपियों को गिरफ्तार करने में प्रधान आरक्षक दुर्गाशंकर, आरक्षक धर्मेन्द्र, आरक्षक सुनील तथा सैनिक सुनील का सराहनीय योगदान रहा।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments

error: Content is protected !!