Home सामाजिक राजगढ़ - गुरुदेव श्री जयमुनिजी का हुआ मंगल प्रवेश, धर्मसभा में कहा...

राजगढ़ – गुरुदेव श्री जयमुनिजी का हुआ मंगल प्रवेश, धर्मसभा में कहा – राजगढ़ धर्म नगरी है, यहां पर बड़े-बड़े संत-सतीजी ने ग्रहण की दीक्षा

राजगढ़। पण्डितरत्न आगमज्ञानरत्नाकर पुज्य गुरुदेव श्री जयमुनीजी म.सा.आदि ठाणा 6 स्थानक भवन चबुतरा चोक पर विराजित है। पूज्य गुरुदेव श्री जयमुनिजी मसा ने धर्म सभा मे बताया कि राजगढ़ एक धर्म नगरी है यहां पर बड़े-बड़े संत सती जी ने दीक्षा ग्रहण कर कर राजगढ़ नगर का नाम रोशन किया। बताया कि समस्या का समाधान हर व्यक्ति ढूंढता है जबकि वह समस्या का समाधान उसके पास ही है, गुरु के बिना ज्ञान अधूरा होता है। आचार्य भगवन पूज्य गुरुदेव श्री उमेश मुनि जी महाराज साहब ने अनेक साहित्य लिखे हर श्रावक श्राविका उन साहित्य को पढ़कर स्वाध्याय ज्ञान लेना चाहिए। उन्होंने इतनी मेहनत कर एक एक शब्द को जोड़ा है उसको पढ़कर हमें धर्म आराधना में आगे बढ़ना चाहिए। पूज्य गुरुदेव आदेश मुनि जी महाराज साहब धर्म सभा में बताया कि जो मिला उसमें संतोष करना चाहिए हर व्यक्ति को अपने से नीचे व्यक्ति को देख कर चलना चाहिए और धर्म आराधना में अपने से ऊपर वाले व्यक्ति को देखना चाहिए।
समाज के हितेश वागरेचा ने बताया कि सभी संत का 2020 का चातुर्मास हैदराबाद था। वह से विहार कर के सूरत पधारे। वहा से गोधरा, दाहोद, झाबुआ से कालीदेवी दत्तीगांव से जयंत सेन म्यूजियम मोहनखेड़ा तथा वहां से विहार कर दिनांक 30 जून को शाम को राजगढ़ महावीर स्थानक भवन पर मंगल प्रवेश हुवा। आप का 2021 का चातुर्मास इन्दोर में जानकी नगर में है। आप हैदराबाद से विहार कर के राजगढ़ तक पैदल 1500 किलोमीटर का उग्र विहार कर राजगढ़ पधारे। आज शाम को फुलगावड़ी विहार करेंगे। 2 जुलाई को आप मांगोद विराजित रहेंगे। से धार की और वहाँ से इन्दोर पधारेंगे। नरेंद्र कुमार जैन हैदराबाद, राजू जैन सूरत विहार सेवा दे रहे हैं। निरंतर हैदराबाद से सूरत और सूरत से राजगढ़ तक राजगढ़ से इंदौर तक विहार सेवा में संत के साथ हैं आज का अतिथि सत्कार का लाभ अजीत कुमार खबिया, आज की प्रभावना अजीत कुमार खबिया और बाबूलाल मूणत परिवार की थी। संचालन हेमन्त वागरेचा ने किया।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments

error: Content is protected !!