Home अपना शहर "प्राणवायु" का जिम्मा संभाल रहें नायब तहसीलदार परिहार जमीनी स्तर पर निभा...

“प्राणवायु” का जिम्मा संभाल रहें नायब तहसीलदार परिहार जमीनी स्तर पर निभा रहे अपना फर्ज.. कहते है – विश्वास और धैर्य है जीवन की ऑक्सीजन

रमेश प्रजापति, सरदारपुर। कोरोना की दूसरी लहर का प्रकोप पूरे देश मे देखने को मिल रहा हैं। सब और भय का माहौल व्याप्त है, लेकिन इस भय के माहौल को खत्म करने के लिए अधिकारी जमीन स्तर पर डटकर लोगों की सेवा करने से साथ ही उनमें सकारात्मकता लाने में जुटे हैं। सरदारपुर के नायब तहसीलदार प्रकाश परिहार विगत माह से ग्राउंड पर डटकर लोगों को धैर्य रखने की सलाह दे रहें हैं। साथ ही सरदारपुर तहसील में “प्राणवायु” (ऑक्सीजन) का जिम्मा संभाले हुए हैं। हर रोज़ सुबह-शाम तहसील के अस्पतालों में किसी भी मरीज को ऑक्सीजन की कमी ना हो इसलिए टीम वर्क कर ऑक्सीजन की व्यवस्था कर रहे हैं, तो दिनभर राजोद क्षेत्र में जमीनी स्तर पर अपना कर्तव्य निभाते हुए लोगों में सकारात्मकता लाने में जुटे हुए है।

ऑक्सीजन की कमी ना हो इसलिए बनाया बैकअप प्लान –

नायब तहसीलदार प्रकाश परिहार को तहसील के अस्पतालों में ऑक्सीजन पहुचाने का जिम्मेदारी वरिष्ठ अधिकारियों ने दी हैं। परिहार के साथ मानव सेवा हॉस्पिटल तथा राजेंद्र सूरी हॉस्पिटल मोहनखेड़ा हेतु सीडीपीओ निगवाल, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र हेतु प्राचार्य जीपी शर्मा तथा मोहनखेड़ा स्थित कोविड केयर सेंटर हेतु बीईओ प्रमोद माथुर को नोडल अधिकारी बनाया गया हैं। नायब तहसीलदार परिहार ने बताया कि हम सभी कोविड हॉस्पिटल से प्रतिदन ऑक्सीजन डिमांड ले लेते है। रोजाना 40 से 50 ऑक्सीजन सिलेंडर बुलवाते है। हर अस्पताल को आवश्यकता अनुसार ऑक्सीजन सिलेंडर भेजते है। फिर भी अगर किसी अस्पताल में आनन-फानन में आवश्यकता लगती है तो दूसरे अस्पताल से ऑक्सीजन भेजी जाती हैं। शुरू में ऑक्सीजन मैनेज करने में थोड़ी दिक्कत हुई थी। लेकिन अब हमारा प्रयास रहता है कि हर मरीज को ऑक्सीजन की पूर्ति हो सके। यह सब हमारे वरिष्ठ अधिकारियों के मार्गदर्शन तथा अधीनस्थ अधिकारी तथा कर्मचारियों की मेहनत से संभव हो रहा है। 

विश्वास तथा धैर्य ही सबसे बड़ा ऑक्सीजन – 

नायब तहसीलदार परिहार राजोद क्षेत्र कमान सँभाले हुए हैं। वे बताते है कि वरिष्ठ अधिकारियों के मार्गदर्शन में तथा पुलिसबल व कर्मचारियों के साथ समय-समय पर गांव एवं कस्बों में भ्रमण कर लोगों में जागरूकता लाने का कार्य कर रहें हैं। साथ ही सकारात्मकता लाने का भी हर संभव प्रयास कर रहें हैं। नायब तहसीलदार प्रकाश परिहार कहते है कि यह समय लोगों की मदद करने का है जो एक अवसर के रूप में हमे मिला हैं। इस समय मे लोगों की जीतनी भी सेवा कर सकते है उतनी करना चाहिए। मेरा मानना है कि व्यक्ति का स्वयं पर विश्वास तथा धैर्य ही सबसे बड़ा ऑक्सीजन हैं। समस्या बहुत बड़ी है लेकिन धैर्य उससे भी बड़ा है। इसलिए मेरी लोगो से अपील है कि उन्हें हड़बड़ाना नही चाहिए। सरकार का हर कर्मचारी लोगों की परेशानी दूर करने हेतु ड्यूटी कर रहा है। इसलिए थोड़ासा संयम और विश्वास बेहद जरूरी हैं।

घर जाने के बाद भी रख रहे है पूरी सतर्कता –

नायब तहसीलदार प्रकाश परिहार बताते है कि हम दिन भर जमीनी स्तर पर अपनी ड्यूटी करते है। गांव-कस्बों में भ्रमण के अलावा हॉस्पिटल में भी जाना पड़ता है। घर-परिवार वाले चिंता भी करते है। परिवार में वृद्ध माता-पिता तथा छोटे बच्चे भी है। मेरा 3 वर्ष का बेटा है, जो घर जाते हैं करीब आने के लिए दौड़ लगाता है। लेकिन घर पहुँचकर खुद को पहले सेनिटाइज करता हूं, कपड़ो को गर्म पानी मे धोने के लिए रखता हूं तथा नहाने के बाद ही परिवार वालों के सम्पर्क में आता हूं। जमीन पर ड्यूटी करने वाले हर व्यक्ति से कहना चाहूंगा कि कोविड की गाइडलाइन का पूरी तरह पालन करेंगे तो इस वायरस से अपनी तथा अपने परिवार की सुरक्षा पूरी तरह हो पाएगी।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments

error: Content is protected !!