Home चेतक टाइम्स MP NEWS : होम क्वारेंटाइन व्यवस्था को प्रभावी बनाने के लिए हर...

MP NEWS : होम क्वारेंटाइन व्यवस्था को प्रभावी बनाने के लिए हर जिले में बनाया जाए “कमांड कंट्रोल रूम”

भोपाल। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि शासन द्वारा कोरोना के उपचार के लिए प्रत्येक जिले में डेडिकेटेड कोविड अस्पतालों के माध्यम से उत्कृष्ट व्यवस्था की गई है। इसी के साथ कुछ निजी चिकित्सालयों को भी कोविड के इलाज के लिए अनुबंधित किया गया है, जहां पर सभी को नि:शुल्क इलाज की सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है। इलाज की अच्छी व्यवस्था के चलते प्रदेश में बड़ी संख्या में मरीज स्वस्थ होकर घर जा रहे हैं। हमारी रिकवरी रेट 76.4 प्रतिशत है। बहुत से कोरोना संक्रमित तथा कोरोना संदिग्ध, जिनके घर पर व्यवस्था है, ‘होम आइसोलेशन’ तथा ‘होम क्वारेंटाइन’ को प्राथमिकता देते हैं। इसके लिए प्रत्येक जिले में ‘कमांड कंट्रोल रूम’ बनाए जाएं, जहां से ‘होम आइसोलेशन’ एवं ‘होम क्वारेंटाइन’ हुए व्यक्तियों की निरंतर देखभाल एवं निगरानी की जा सके। यहां एम्बुलेंस भी आवश्यक रूप से रखी जाए। दिन में कम से कम दो बार उनके स्वास्थ्य की जानकारी ली जाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश धीरे-धीरे पूर्ण लॉकडाउन खोलने की दिशा में आगे बढ़ रहा है। ऐसे में यह आवश्यक है कि हमारी मशीनरी इसकी चुनौतियों के लिए पहले से ही पूर्ण रूप से तैयार हो जाए। हमें अपनी अर्थव्यवस्था को गतिशील करना है तथा जन-जीवन को पूर्ण रूप से सामान्य एवं खुशहाल बनाना है। यदि कोरोना संक्रमण रोकने की सभी सावधानियां मास्क लगाना, दो गज की दूरी रखना आदि का पालन किया जाए, तो हम संक्रमण को भी रोक सकते हैं और जन-जीवन को भी पूर्ण रूप से सामान्य बना सकते हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान मंत्रालय में वी.सी. के माध्यम से प्रदेश में कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा कर रहे थे। गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा, चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री विश्वास सारंग, मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, डीजीपी श्री विवेक जौहरी, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य श्री मोहम्मद सुलेमान उपस्थित थे।

निजी चिकित्सालयों में भी प्रोटोकॉल का पालन हो
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि शासकीय चिकित्सालयों के साथ ही निजी चिकित्सालयों में भी कोरोना के इलाज के निर्धारित प्रोटोकॉल का शत-प्रतिशत पालन सुनिश्चित किया जाए, जिससे व्यक्ति अपनी इच्छा एवं सुविधानुसार शासकीय अथवा निजी अस्पतालों में इलाज करा सके। इसी के साथ यह भी सुनिश्चित किया जाए कि निजी चिकित्सालय मरीजों से मनमाना शुल्क न वसूल सकें। कोरोना का इलाज कर रहे निजी चिकित्सालयों के पास सभी आवश्यक संसाधन एवं चिकित्सा सुविधा उपलब्ध हो, यह भी देखा जाए।

कलेक्टर करें समन्वय स्थापित
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सभी कलेक्टर्स को निर्देश दिए कि वे अपने क्षेत्र में निजी चिकित्सालयों के साथ समन्वय कर कोरोना के इलाज के संबंध में उनके पास उपलब्ध संसाधनों एवं चिकित्सा सुविधाओं की जानकारी प्राप्त करें। कोरोना के इलाज के संबंध में निजी चिकित्सालयों को आवश्यक प्रशिक्षण भी दिया जाए। निजी चिकित्सालयों के चिकित्सकीय अमले एवं संसाधनों का पूरा उपयोग किया जाए।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments

error: Content is protected !!