Home चेतक टाइम्स पेटलावद - जैन धर्म के पर्युषण पर्व दिवस तक नगर में मांस...

पेटलावद – जैन धर्म के पर्युषण पर्व दिवस तक नगर में मांस क्रय-विक्रय को प्रतिबंधित करने की मांग को लेकर सौंपा ज्ञापन

पेटलावद। जैन सोश्यल ग्रुप मैत्री द्वारा पर्वाधिराज पर्व पर्युषण के दिनों में सम्पूर्ण कत्लखाने एवं मास के क्रय-विक्रय को पूर्ण रूप से प्रतिबंधित रखने के लिए एक ज्ञापन एसडीएम, सीएमओ एवम थाना प्रभारी को दिया गया। अध्यक्ष नवीन मुरार द्वारा बताया गया कि जैन धर्म का प्रमुख  महापर्व “पर्युषण पर्व” आगामी दिनों में मनाया जायेगा। इन दिनो सभी जैन धर्मावलम्बी ज्ञान, दर्शन, चारित्र ओर तप की आराधना, साधना और उपासना करते हे। पर्युषण के दौरान अंहिसा करुणा ओर मैत्री का विशेष संदेश प्रचारित किया जाता है। 

जैेन धर्म की अंहिसा की व्याख्या यह है कि हम छोटे से छोटे प्राणी की आत्मा को अपनी आत्मा के समान समझते है। अतः ज्ञापन के माध्यम से  यह निवेदन किया गया, कि भगवान महावीर का सन्देश “जीओ ओर जीने दो”  की उपयोगिता को ध्यान मे रखते हुऐ ओर वर्तमान को वर्धमान की आवश्यकता बताने के लिये  जैन धर्म के पर्युषण पर्व” के दिवस तक  पेटलावद में मांस के क्रय विक्रय को इन दिनो तक प्रतिबंधित किया जाये। ज्ञापन का वाचन रीज़न सह सचिव चेतन कटकानी द्वारा किया गया। इस दौरान ग्रुप के मार्गदर्शक संजय चाणोदिया, दीपक चाणोदिया, रत्नेश मोदी, संदीप पटवा, अंकित कटकानी आदि सदस्य उपस्थित रहे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments

error: Content is protected !!