रिंगनोद। गांव के सदर बाजार स्थित श्री राम बड़ा मंदिर में चल रहे पुराने विवाद को लेकर आज सरदारपुर एसडीएम बीएस कलेश के सामने पुजारी परिवार तथा ग्रामीणों के बीच विवाद हो गया। विवाद के दौरान जमकर लाठी-डंडे चले। विवाद में 10 से 15 लोग घायल हुए हैं। दरसल रिंगनोद का बड़ा राम मंदिर जो कि पाटीदार, अग्रवाल, ब्राम्हण तथा माहेश्वरी समाज के मंदिर के नाम से प्रसिद्ध है, मंदिर पर पुजारी द्वारा कब्जे किए जाने और पूजा नही करने को लेकर पूर्व से विवाद चल रहा है। बीते दिनों इसको लेकर ग्रामीणों ने सरदारपुर एसडीएम को एक ज्ञापन सौपा था। जिमसें उन्होंने पुजारी कैलाश चंद वैष्णव पर आरोप लगाए थे। इसी को लेकर आज एसडीएम बीएस कलेश मंदिर पहुचे थे। इस दौरान ग्रामीणों द्वारा भगवान को माल्यार्पण करने की बात को लेकर पुजारी एवं ग्रामीणों में विवाद इतना बढ़ गया कि पुजारी परिवार एवं ग्रामीणों के बीच लाठी-डंडे चल गए। घटना की जानकारी मिलते ही सरदारपुर एसडीओपी यशस्वी शिंदे, थाना प्रभारी अभिनव शुक्ला, चौकी प्रभारी राहुल चौहान पुलिस बल से साथ मौके पर पहुचे और स्थिति को नियंत्रण में किया। विवाद  के बाद ग्रामीण चौकी पर एकत्रित हुए एवं घायलों के साथ धरने पर बैठे एवं पुजारी व परिवार पर प्रकरण दर्ज करवाने एवं गिरफ्तार करने की मांग करने लगे। अधिकारियों की समझाइश के बाद ग्रामीण चौकी से रवाना हुए। विवाद में घायल हुए लोगो को सरदारपुर उपचार हेतु भेजा गया। 

पुलिस की मौजूदगी में होगी पूजा -  मंदिर में यह सारा विवाद एसडीएम के सामने हुआ। विवाद के दौरान एसडीएम को उनके सैनिक एवं ग्रामीणों ने सुरक्षित मंदिर से निकालकर पुलिस चौकी रवाना किया। एसडीएम बीएस कलेश ने बताया कि पुजारी और ग्रामीणों में हो रहे विवाद को देखते हुए भविष्य में कोई अप्रिय घटना ना हो इसके चलते श्री राम मंदिर में पुलिस की मौजूदगी में प्रतिदिन पूजन एवं आरती होगी। 

सरदारपुर एसडीओपी यशस्वी शिंदे ने बताया कि मंदिर में पूजा को लेकर पुजारी और ग्रामीणों में विवाद हुआ है। दोनो पक्षों की रिपोर्ट पर प्रकरण दर्ज किए गए है।

Post a comment

 
Top