बरमंडल। लाबरिया-दसाई 23 किमी प्रधानमंत्री सडक को भले ही 6 माह पुर्व दो विभागो के बीच बांट दिया गया है। लेकिन इस सडक के बंटवारे के बाद आधी सडक बदहाल हो चुकी है। दोनो विभाग एक दुसरो पर बदहाली थोप रहे है। और जवाबदार भ्रमित कर रहे है। उक्त मार्ग की दुदर्शा को लेकर करीब एक माह पुर्व आरिफ शेख के द्वारा सीएम हैल्प लाईन पर शिकायत दर्ज करवाई गई लेकिन शिकायत का निराकरण न करते हुये पीडब्ल्यूडी विभाग के कार्यपालन यंत्रीे द्वारा भ्रमित कर शिकायत का निराकरण कर उसे बंद कर दिया गया। जबकी वस्तुस्थिती ठीक इसके विपरीत है। बुधवार को शाम करीब 5 बजकर 10 मिनीट पर कार्यपालन यंत्री लोक निर्माण संभाग धार के द्वारा शिकायतकर्ता के निराकरण मे बताया गया की लाबरिया से चिराखान मार्ग पर पेच रिपेयर कार्य प्रगति पर होकर पुर्णता की और है। मार्ग का क्रस्ट अत्यंत खराब है पुननिर्माण का प्राक्लन सीआरएफ योजना के अंतर्गत भेजा गया है। स्वीकृति उपरांत कार्य आरंभ किया जायेगा। जबकी उक्त मार्ग पर वर्तमान मे लाबरिया से चिराखाॅन के बीच कही पर भी पेंच कार्य नही हो रहा है। केवल प्रधानमंत्री सडक विभाग के द्वारा दसाई से चिराखाॅन के बीच ही 1 जनवरी से पेचवर्क कार्य आरंभ किया गया है।

यह है समस्या - करीब दो दशक  पुर्व लाबरिया से दसाई तक 23 किमी सडक प्रधानमंत्री सडक योजना केे तहत बनाई  गई थी। उस समय यह जिले की सबसे बडी प्रधानमंत्री सडक थी। पिछले 6 माह पुर्व उक्त सडक को दो विभागो के बीच बांट दिया गया है। जिसमे लाबरिया से चिराखाॅन का मार्ग पीडब्ल्यूडी विभाग बदनावर को हस्तातंरित किया गया है। उक्त सडक चिराखाॅन से कडोदकला होते हुये नागदा तक टुलैन मे परिवर्तीत होगी। जबकी चिराखाॅन से दसाई  तक का मार्ग प्रधानमंत्री सडक विभाग को सौपा गया है। उक्त मार्ग पर विभाग के द्वारा पेचवर्क भी किया जा रहा है। जबकी लाबरिया से चिराखाॅन मार्ग पुरी तरह जर्जर होकर बदहाल हो चुका है।

दोनो विभाग अपनी जवाबदारी से झाड रहे है पल्ला - प्रधानमंत्री सडक विभाग के अधिकारी तेजपाल कोहली के द्वारा बताया गया की लाबरिया से चिराखाॅन तक का मार्ग पीडब्ल्यूडी विभाग को हस्तातंरित किया जा चुका है। इसका रखरखाव वै ही करेगे। जबकी पीडब्ल्यूडी विभाग के कार्यपालन यंत्री के द्वारा शिकायतकर्ता को बताया गया की उक्त मार्ग अभी उन्हे हैंडओवर नही हुआ है। अब देखना है की दो विभाग के बीच फंसा हुआ लाबरिया से चिराखाॅन मार्ग की बदहाली कब दुर होती है।

Post a comment

 
Top