भोपाल। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश को गत वर्ष की तुलना में इस बार 2 गुना से अधिक यूरिया प्राप्त हुआ है। गत वर्ष भारत सरकार से इस अवधि तक 3.08 लाख मीट्रिक टन यूरिया मिला था, जबकि इस वर्ष अभी तक 6.09 लाख मीट्रिक टन यूरिया प्रदेश को प्राप्त हो गया है। किसानों को उनकी आवश्यकता के अनुसार समय पर यूरिया प्रदाय सुनिश्चित किया जाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान मंत्रालय में प्रदेश में यूरिया प्रदाय की व्यवस्थाओं की समीक्षा कर रहे थे। बैठक में मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, कृषि उत्पादन आयुक्त श्री के.के. सिंह, प्रमुख सचिव श्री अजीत केसरी, प्रमुख सचिव श्री फैज अहमद किदवई, प्रबंध संचालक मार्कफेड श्री पी. नरहरि आदि उपस्थित थे।

4800 विक्रय केन्द्रों से वितरण

प्रदेश में सहकारी क्षेत्र में 4800 विक्रय केन्द्र बनाए गए हैं, जहां से सहकारी समितियों, विपणन संघ, एम.पी. एग्रो के माध्यम से किसानों को यूरिया का नगद वितरण किया जा रहा है। इस वर्ष प्रदेश में सहकारी एवं निजी क्षेत्र में यूरिया के वितरण का अनुपात 70 : 30 रखा गया है।

मोबाइल एप से भी यूरिया प्रदाय

किसानों को यूरिया का प्रदाय POS मशीन द्वारा किया जा रहा है। इसके अलावा भारत सरकार द्वारा 'बायोमेट्रिक स्कैनर डिवाइस' एवं 'एंड्राइड मोबाइल एप' के माध्यम से भी यूरिया के प्रदाय का विकल्प दिया गया है।

17 लाख 98 हजार मीट्रिक टन का लक्ष्य

गत वर्ष प्रदेश में सर्वाधिक 17 लाख 98 हजार मीट्रिक टन यूरिया का उपयोग किया गया था। इसी को आधार मानकर इतनी ही मात्रा में इस वर्ष किसानों के लिए यूरिया की व्यवस्था की जा रही है।

27 प्रतिशत अधिक वितरण

गत वर्ष की तुलना में इस वर्ष प्रदेश में किसानों को यूरिया का 27 प्रतिशत अधिक वितरण किया गया है। गत वर्ष इस अवधि तक किसानों को 3.07 लाख मीट्रिक टन यूरिया वितरित किया गया था, जबकि इस वर्ष अभी तक 3.91 लाख मीट्रिक टन यूरिया वितरित किया जा चुका है।

माह नवंबर के लिए 7 लाख 3 हजार मीट्रिक टन का आवंटन प्राप्त

इस वर्ष प्रदेश को भारत सरकार द्वारा माह नवंबर के लिए 7 लाख 3 हजार मीट्रिक टन यूरिया का आवंटन प्रदाय किया गया है, जिसमें स्वदेशी यूरिया 2 लाख 30 हजार मीट्रिक टन एवं आयातित यूरिया 4 लाख 73 हजार मीट्रिक टन है।

Post a comment

 
Top