नरेन्द्र पँवार, दसाई। धन और दौलत साथ नही जाने वाली हैं मात्र धर्म और अच्छे कर्म ही हमारे साथ रहने वाले हैं। अच्छे कर्म से कई प्रकार के लाभ भी मिलते हैं वही धन दौलत मिलने पर परमात्मा को भी लोग भूल जाते हैं, यह जीवन की सबसे बडी भूल हैं। क्योकि धर्म और परमात्मा ही हमें आगे बडा रहें हैं उक्त विचार शनिवार को राजेन्द्रसूरि ज्ञान मन्दिर में पर्यूषण महापर्व के प्रथम दिवस साध्वी मननकीर्ती म.सा ने कहे। साध्वी धैर्यकीर्ति म.सा ने कहा कि आत्मा को परमात्मा से मिलाने का और धर्म करने का यह सुनहरा अवसर हैं।पर्युषण पर्व में हमें धर्म आराधना कर जीवन को धन्य बनाना हैं ।जीवन में पूण्य कमाया हुआ साथ जाता है वही दौलत तो यही रह जाति हैं। इसलिये जितना हो सके धर्म आराधना करते रहना चाहिये। प्रातःभगवान आदिनाथ का पक्षाल, केसर पूजा और दर्शन लाभ समाजजनो ने शारीरीक दूरी के साथ किये। प्रथम दिवस प्रभावना का लाभ चंचलकुमार पिपाडा ने लिया। इस अवसर पर भगवान की मनमोहक अंगरचना सुरेशचंद नाहर परिवार द्वारा की गई।

बुधवार को होगा महावीर जन्म वाचन - भगवान महावीर जन्म कल्याण महोत्सव 19 अगस्त बुधवार को मनाया जावेगा। इस दिन माता त्रिषला द्वारा देखे गये 14 सपनो का चढावा लगाकर उन्हे झुलाया जावेगा। 22 अगस्त स्निवार को क्षमापना पर्व मनाया जावेगा। पर्युषण पर्व के प्रारम्भ में साध्वी मनन र्कीति और साध्वी धैर्यकीति म.सा की निश्रा में वधामणे का कार्यक्रम रखा गया जिसमें  नेहा मण्डलेचा, मुस्कान पावेचा, सलोनी मण्डलेचा, पायल बम, जैनम राठोर, क्रतिक सियाल, जैनम नाहर द्वारा वधामणे के सुन्दर ग्रंटिग कार्ड का प्रदर्शन  किया। मण्डलेचा परिवार द्वारा सभी का बहुमान किया।

Post a comment

 
Top