राजगढ़। नगर परिषद राजगढ़ ने स्वच्छता सर्वेक्षण में 50 हजार से कम आबादी वाले शहर में स्वच्छता के मामले में मध्य प्रदेश में तीसरा तो देश में 33 वां स्थान हासिल किया है। इस उपलब्ध पर नगर परिषद का अमला गदगद है तथा नगर परिषद अध्यक्ष सहित अधिकारी एवं कर्मचारी इसका श्रेय सफाई कर्मचारियों  एवं नगर की जनता के सहयोग को दे रहें। राजगढ़ नगर ने यह उपलब्धि हासिल करने में कड़ी मेहनत की है। नगर परिषद के 90 सफाई मित्रो ने दिन-रात मेहनत की जिसके परिणाम स्वरूप राजगढ़ नगर स्वच्छता के मामले में प्रदेश में तीसरे स्थान पर आया है।

सफाई मित्रो एवं नगर की जनता के सहयोग से हुआ यह संभव -
 स्वच्छता सर्वेक्षण में नगर को अव्वल बनाने हेतु परिषद का अमला पूरी तरह जुटा रहा। दिन के साथ ही रात्रि में भी नगर की सफाई करवाई गई। जहाँ पर कचरा एकत्रित होता था वहां से नियमित रूप से कचरा उठाया गया। इसी की बदौलत 25 से 50 हजार की आबादी वाली नगर निकाय में राजगढ़ नगर परिषद को नेशनल रैंक 33 एवं स्टेट रैंक 3 मिली हैं। साथ ही ओडीएफ रैंक में नगर परिषद को डबल प्लस मिले हैं। नगर परिषद की इस उपलब्धि पर नप अध्यक्ष भंवरसिंह बारोड़ ने कहा कि यह सब नगर परिषद के सफाई मित्रो की मेहनत एवं नगर की जनता व नगर की विभिन्न संस्थाओं के सहयोग का परिणाम है। अध्यक्ष बारोड़ ने यह भी कहाँ के हमारे सफाई कर्मचारियों ने कड़ी मेहनत कर हर तरह के मौसम में नगर को स्वच्छ बनाने में कड़ी मेहनत की है, साथ ही कोरोना महामारी के दौर में भी परिषद का अमला पूरी तरह जुटा है। हम आगे भी यह जारी रखेंगे। वही नगर परिषद उपाध्यक्ष अजय जायसवाल ने नगर परिषद को मिली इस उपलब्धि का श्रेय परिषद के सफाई कर्मचारियों एवं नगर की जनता को देते हुए आभार व्यक्त किया है।

नियमत उठवाया कचरा, 90 सफाई कर्मचारी रात-दिन जुटे रहें - 
नगर परिषद को यह मुकाम ऐसे ही हासिल नही हुआ। इसके पीछे नगर परिषद के अमले ने काफी मेहनत भी की है। नगर परिषद सीएमओ सुरेंद्र सिंह पँवार ने बताया कि नगर परिषद को मिली इस सफलता के पीछे नगर परिषद के कर्मचारियों, नगर की जनता एवं नगर की विभिन्न संस्थाओं का योगदान है। हमारे 90 सफाई मित्र ने नियमित सफाई की तथा जहाँ कचरा एकत्रित होता था वहां से नियमत कचरा उठवाया। नगर में 5 कचरा वाहन ने घर-घर भ्रमण कर कचरा एकत्रित किया। यह कचरा टेंचिग ग्राउंड पर भेजा जाता हैं। गीले एवं सूखे कचरे को अलग किया जाता है। गीले कचरे से खाद बनाई जाती हैं एवं सूखे कचरे से पॉलीथिन सहित अन्य की छंटाई कर उसे भी खाद बनाने के उपयोग में लिया जाता है। नगर की जनता में स्वछता के प्रति जागरूकता लाने हेतु समय-समय पर प्रचार-प्रसार किया गया। जिसमें हमे नगर की विभिन्न संस्थाओं का भी सहयोग मिला। साथ ही नगर के विभिन्न इलाकों में पेंटिग भी बनवाई गई।

Post a comment

 
Top