राजगढ़। स्थानीय नगर परिषद सभा कक्ष में मध्यप्रदेश अशासकीय शिक्षण संस्था संघ की तहसील इकाई द्वारा कार्यक्रम आयोजित कर तहसील के पत्रकार साथियों का कोरोना योद्धाओं के रूप में पौधा देख कर सम्मान किया गया। इस दौरान पदाधिकारियों ने प्रेसवार्ता कर कोरोना काल के दौरान आ रही परेशानियों को अवगत कराया। स्वागत भाषण देते हुए अध्यक्ष सुशील कुमार जैन ने बताया कि वर्तमान दौर में जिस प्रकार प्रशासन ने नीतियां बनाई है। उससे कहीं ना कहीं प्राइवेट स्कूलों की आर्थिक रूप से कमर तोड़ दी है। दूसरी ओर सरकार द्वारा जारी आदेश के बावजूद भी बैंकों लगातार ईएमआई भरने के लिए दबाव बनाया जा रहा है। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि नगर परिषद अध्यक्ष भंवर सिंह बारोड़, सीएमओ सुरेंद्र सिंह पवार, पत्रकार गोपाल सोनी एवं सुनील बाफना थे। अतिथियों के साथ संघ के तहसील अध्यक्ष सुशील कुमार जैन, उपाध्यक्ष रमेश बारोड़ एवं संरक्षक विपिन पांडे मंचासीन थे। कार्यक्रम को नगर परिषद अध्यक्ष बारोड़ समेत अन्य अतिथियों ने संबोधित किया। इस दौरान सुरेश जाट, मुकेश पाटीदार, देवेंद्र सतपुड़ा, कमल सिसोदिया, बाबूलाल परवार, सत्यनारायण व्यास, दामोदर कुमावत आदि मौजूद रहे। कार्यक्रम का संचालन संघ के कोषाध्यक्ष गणेश पाटीदार ने किया।

प्रेसवार्ता कर रखी अपनी मांगे - 
अशासकीय शिक्षण संस्था संघ द्वारा प्रेसवार्ता कर सरकार के समक्ष अपनी कई मांगे रखी। संघ के अध्यक्ष सुशील जैन ने बताया कि गत वर्ष 2019- 20 की बकाया शुल्क राशि पालकों द्वारा जमा करवाने के स्पष्ट और सख्त निर्देश शासन द्वारा दिए जाएं, आरटीई के तहत निशुल्क पढ़ने वाले बच्चों कि सत्र 2018 -19 और 2019 - 20 तक कि शुल्क राशि विद्यालय के खातों में डलवाई जाएं और सत्र 2020 -21 कि 50% शुल्क राशि विद्यालय के खातों में डाली जाए तथा अशासकीय विद्यालयों में कार्यरत शैक्षणिक एवं अन्य कर्मचारियों को राहत पैकेज जारी किया जाए। साथ ही विद्यालय संचालकों को भी राहत पैकेज दिया जाए। इस तरह संघ द्वारा सरकार के समक्ष अनेक मांगे रखी गई।

Post a comment

 
Top