भोपाल। मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन का आज निधन हो गया। उत्तर प्रदेश के लखनऊ स्थित मेदांता अस्पताल में उन्होंने अंतिम सांस ली। इस बात की जानकारी उनके बेटे अशुतोष टंडन ने ट्वीट कर दी। लाल जी टंडन पिछले कई दिनों से बीमार चल रहे थे। वे 85 वर्ष के थे।  लालजी टंडन का मेदांता अस्पताल में करीब डेढ़ महीने से इलाज चल रहा था। लालजी टंडन के किडनी और लिवर में दिक्कत के बाद उन्हें एडमिट कराया गया था। अटल को पिता मानने वाले लालजी टंडन को मायावती बांधती थीं राखी, पार्षद से लेकर राजभवन तक ऐसा रहा उनका सफर उन्हें गत 11 जून को सांस लेने में परेशानी, बुखार और पेशाब में दिक्‍कत के कारण अस्‍पताल में भर्ती किया गया था। टंडन की तबीयत खराब होने के चलते उत्तर प्रदेश की राज्‍यपाल आनंदीबेन पटेल को मध्‍य प्रदेश का अतिरिक्‍त कार्यभार दिया गया है। मूल रूप से उत्तर प्रदेश की राजनीति में सक्रिय रहने वाले टंडन प्रदेश की बीजेपी सरकारों में कई बार मंत्री भी रहे हैं और अटल बिहारी वाजपेयी के सहयोगी के रूप में जाने जाते रहे। इन्होंने वाजपेयी के चुनाव क्षेत्र लखनऊ की कमान संभाली थी और  वाजपेयी के निधन बाद लखनऊ से ही 15वीं लोकसभा के लिए भी चुने गए।

Post a comment

 
Top