धार। जिलें में सूनसान रास्तो/घाटियों में राहगीरों को निशना बनाकर लूट डकैती करने वाले गिरोहो पर पूर्णतः शिकंजा कसने के लिए पुलिस कप्तान आदित्य प्रतापसिंह द्वारा जिलें के कुछ सूनसान रास्ते/घाटिया चिंहित कर चेकिंग र्पाइंट बनाकर थानों व एस.एफ. कंपनियो के बल को मय आर्म्स एम्युनेशन के लगाया गया था।
दिनांक 21 अप्रैल को थाना सरदारपुर की चौकी रिंगनोद अंतर्गत ताराघाटी के रास्ते पर अज्ञात बदमाशों ने पत्थर जमा दिए एवं राहगीरों से लूटपाट कर रहे थे। जिस पर से ताराघाटी पर पेट्रोलिंग कर रहे पुलिसकर्मी मौके पर पहुचे तो बदमाशों ने रात के अंधेरे में पुलिस वाहन पर फायरिंग व पथराव शुरू कर दिया एवं जंगल के रास्ते भाग गए। बदमाशों की अंधाधुन फायरिंग व पथराव से दो पुलिसकर्मी घायल भी हो गए थे, जिनकी रिपोर्ट पर से अज्ञात 10-12 बदमाशों के विरूद्ध थाना सरदारपुर में अपराध क्रमांक 179/20 धारा 353, 332, 307, 147, 148, 149 भादवि व 25, 27 आम्र्स एक्ट का प्रकरण पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।
उक्त मामले में थाना सरदारपुर पुलिस द्वारा 05 भूतिया के आरोपियों को गिरफ्तार कर न्यायालय भेजा गया था। शेष आरोपियों की गिरफ्तारी शीघ्र सुनिश्चित करने के लिए पुलिस अधीक्षक जिला धार आदित्य प्रताप सिंह ने अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक धार  देवेन्द्र पाटीदार के निर्देशन में एसडीओपी सरदारपुर ऐश्वर्य शास्त्री, थाना प्रभारी सरदारपुर बलजीत सिंह बिसेन के साथ-साथ क्राईम ब्रांच धार प्रभारी संतोष कुमार पाण्डेय को लगाया गया था।
इसी तारतम्य में दिनांक 18 जुलाई को क्राईम ब्रांच धार प्रभारी संतोष पाण्डेय को मुखबीर से सूचना मिली कि तीन माह पहले ताराघाटी पर पुलिस बल पर हमला करने वाले गिरोह में शामिल थाना टांडा का कुख्यात बदमाश केसू भील, ग्राम उन्हेल के पास किसी अपराध की नियत से रेकी करने के लिए खडा हुआ है। मुखबीर की सूचना महत्वपूर्ण होने से सूचना से वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराया जाकर, क्राईम ब्रांच धार में पदस्थ सउनि धीरज सिंह राठौर, प्रआर रामसिंह गौर, आर. गुलसिंह, बलराम, प्रशांत, राहुल, संग्राम, नवीन, सज्जन को ग्राम उन्हेल तत्काल भेजा गया। जहा मुखबीर द्वारा बताये गए हुलिए के एक व्यक्ति को घेराबंदी कर पकड़ा, जिसका नाम पता पूछते उसने अपना नाम केसू पिता उमराव सिंह मेडा जाति भील उम्र 25 साल निवासी पटेलपुरा फलिया ग्राम भूतिया थाना टांडा जिला धार बताया। मुखबीर द्वारा दी गई सूचना की तस्दीक हेतु संदेही केसू मेडा को चौकी रिंगनोद लाया गया।
थाना प्रभारी सरदारपुर बलजीत सिंह बिसेन भी तत्काल चौकी रिंगनोद पहुचे, जहा क्राईम ब्रांच धार टीम, थाना प्रभारी सरदारपुर, चौकी प्रभारी रिंगनोद निहाल सिंह दंडोतिया द्वारा केसू मेडा से ताराघाटी पर पुलिस बल पर हमला करने वाले अपराध के संबंध में सख्ती से पूछताछ की, तो आरोपी केसू ने अपना जुल्म स्वीकार कर लिया तथा  पुलिस टीम को बताया कि तीन-चार माह उसने अपने भूतिया गांव के रहने वाले फकरिया पिता गुलु भील, बिरिया पिता नामालूम भील व अन्य 9-10 भूतिया के साथियों के साथ ताराघाटी आए थे। जहा हम सभी ने राहगीरो को लूटने के लिए रात के अंधेरे में ताराघाटी रास्ते पर पत्थर जमाए थे। फकरिया व बिरिया के पास देशी  बन्दुके थी, मैंने हाथ में फलिया लेकर रखा था। थोडी देर में पुलिस की गाडी आ गई, जिन्होने हमे दूर से देख लिया था। तो फकरिया व बिरिया ने पुलिस वालो पर फायरिंग शुरू कर दी थी, मेरे अन्य साथियो ने पुलिस पर पत्थर मारे तथा फलिये व पत्थर से गाडी में तोडफोड की थी। तथा हम सभी उस रात अंधेरे में जंगल के रास्ते होते हुए वापस अपने गांव भूतिया आ गए थे।
पुलिस द्वारा आरोपी केसू को उक्त अपराध सदर में दिनांक गिरफ्तार कर दिनांक 19 जुलाई को न्यायालय पेश कर दिया है। घटना में प्रयुक्त लोहे का फलिया भी आरोपी केसू की निशादेही से पुलिस द्वारा जप्त किया गया है। आरोपी द्वारा बताये गए शेष आरोपियो की गिरफ्तारी के भी प्रयास जारी है।

आरोपी ने कबूल की घटना का -
ज्ञात हो लंबे समय सधार जिलें में सूनसान रास्तो पर पुलिस अधीक्षक धार आदित्य प्रताप सिंह द्वारा दिनांक 21 अप्रैल की रात्रि 10ः30 बजे को प्रआर. सोहन मेडा व आर. ईष्वर पंवार मय आर्म्स के पुलिस की गाडी मव रोड़ पेट्रोलिंग कर रहे थे। ताराघाटी के आगे 10-12 हथियार लेष बदमाशों ने गाडी पर फायरिंग व पत्थरो से हमला कर दिया, जिससे दोनो पुलिसकर्मी घायल गये। सभी बदमाश अंधेरे का फायदा उठाकर भागने में सफल हो गए। घायल पुलिस कर्मी आर. ईष्वर पंवार की रिपोर्ट पर से थाना सरदारपुर में अज्ञात आरोपियों के विरूद्ध अपराध क्रमांक 179/20 धारा 353, 332, 307, 147, 148, 149 भादवि व 25, 27 आर्म्स एक्ट का प्रकरण पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।

Post a comment

 
Top