राहुल राठौड़, राजोद।  नगर में व्यापारीयों के द्वारा प्रशासन के आदेशों की खुलेआम धज्जियां उड़ाई जा रही है। जहाँ एक और प्रशासन कोरोना जैसी महामारी से निदान एवं बचाव हेतु तरह-तरह के जतन कर रहा हैं, वही राजोद नगर के व्यापारीयों के द्वारा ना ही तो मास्क और ना ही सेनेटाइजर का उपयोग किया जा रहा है। जिससे ऐसा लग रहा है कि कोरोना आया था और चला गया। सम्पूर्ण जिले में साप्ताहिक हाट के दिन पुरे जिले में मार्केट बंद रहते। वही जिले का राजोद है जो शनिवार को साप्ताहिक मार्केट होने के कारण पुरा मार्केट खुला रहता है। एसडीएम का आदेश है की साप्ताहिक अवकाश रविवार के दिन बाजार बंद रहेगा, जो  एक या दो रविवार सम्पूर्ण बंद रहा। जैसे-जैसे प्रशासन ने ढील दी वैसे-वैसे व्यापारीयों द्वारा राजोद मार्केट पुरी तरह से रोज की तरह खोल दिया। आज रविवार को भी नगर का बाजार  खुल गया। राजोद पटवारी रघुवीर सिंह डोडिया है जो रोज मार्केट में घुमते दिखाई देते हैं, लेकिन किसी व्यापारीयों को ना ही मास्क लगाने का कहते और ना ही कोई कार्यवाही करते हैं। ऐसे में अब उम्मीद राजोद थाने के नवागत थाना प्रभारी से है। साथ ही नवागत थाना प्रभारी के लिए यह एक चुनोती भी है। थाना प्रभारी को आम जनता को मास्क लगवाना व व्यापारीयों को भी मास्क व सेनेटाइजर का उपयोग करवाना है क्यों की पुर्व में भी रविवार को मार्केट बंद करवाने में  पुर्व थाना प्रभारी को भी कड़ी मेहनत के बाद भी मार्केट बंद नहीं करवा सके और उनका तबादला हो गया।
आज सुबह जब मार्केट पुरा खुला तो थाना प्रभारी को अवगत कराया गया तो उनका कहना था कि बंद करवाता हु। लेकिन शाम होने तक मार्केट पुरा खुला था। जब एसडीएम विजय राय को अवगत कराया गया तो उन्होंने छुट्टी पर होना बताया। उसके बाद तहसीलदार प्रकाश परिहार को भी अवगत कराया तो उन्हें कहा कि मैं थाना प्रभारी को बोलता हूँ। क्षेत्र में कई बार प्रशासन के नुमाइंदे पटवारी रघुवीर सिंह डोडिया घूमते तो दिखाई देते पर दुकानों पर होती भीड़ ओर शोशल डिस्टेंस की उड़ती धज्जियाँ को अनदेखा कर के चले जाते है। शायद उन्होनो ने भी सोच लिया कि "एक था कोरोना"..। नगर से 27 किलोमीटर दूरी पर का बदनावर में कुछ दिन पहले ही तक तीन कोरोना पाजेटिव की पुष्टि हुई है यहाँ से प्रति दिन व्यापारी राजोद में दुकान लगाने वाले व्यापारी की संख्या बडती जा रही है। बदनावर, बडनगर, उज्जैन, आदि जगह से व्यापारी यहाँ आ रहे हैं।
जब राज्य और केंद्र  सरकार ने सप्ताहिक हाट पर पूरी तरह से रोक लगा दी गई, उसके बावजूद राजोद में प्रशासन की अनदेखी से बाहर से व्यापारीयो का आवागमन जारी है जो कभी भी तहसील में कोरोना की दस्तक का एक बड़ा कारण बन सकता हैं। क्योकि फ़िलहाल तो सरदारपुर तहसील में कोरोना की दस्तक नही हुई हैं। लेकिन ऐसी लापरवाही कही ना कही परेशानी का कारण बन जाएगी।

Post a comment

 
Top