विनोद सिर्वी, धुलेट। गुरुवार को गांव  में वन विभाग की टीम ने बड़ी मशक्कत के बाद कब्र बिज्जू को पकड़ा। कई महीनों से धुलेट में कब्र बिज्जू ग्रामीणों को दिख रहे थे। जिससे ग्रामीणों में डर का माहौल था। जनवरी माह में कब्र बिज्जू ने जोगमाया मंदिर में 3 बच्चों को जन्म दिया था। जिसकी सूचना ग्रामीणों ने फॉरेस्ट एसडीओ राकेश डामोर को दी थी। जिसके बाद टीम ने योगमाया मंदिर में पिंजरा लगाया था। परंतु वहां से कहीं गायब हो गए थे। गुरुवार को सुबह करीब 4:00 बजे तेजाजी मंदिर वाले मोहल्ले में जोर-जोर से जानवर के चिल्लाने की आवाज आई उसके बाद गांव के नारायण परवार घर के बाहर निकले और देखा कि 5 कुत्तों ने कबर बिज्जू को घेर कर हमला कर दिया था। तब नारायण ने कुत्तों को भगाया और कबर बिज्जू पर प्लास्टिक का बर्तन रखकर ढक दिया और गांव के दिनेश राठौर ने इसकी सूचना वन विभाग सरदारपुर को दी। कब्र बिज्जू की सूचना के बाद वन विभाग की टीम पिंजरा लेकर धुलेट पहुंची। दुर्लभ जीव को देखने के लिए बड़ी संख्या में ग्रामीण पहुंच गए। कब्र बिज्जू को पकड़ने में डिप्टी रेंजर विक्रम सिंह निनामा, रमेश मेड़ा, सोहन सिंह वास्केल, अकरम भूरिया, पवन बामनिया, प्रकाश बामनिया आदि का सहयोग रहा।
वन विभाग सरदारपुर एसडीओ राकेश डामोर ने बताया कि कब्र बिज्जू होने की सूचना ग्रामीणों से मिली थी जिसके बाद हमारी टीम ने पिंजरा डालकर उसे पकड़ लिया और पानपुरा अभ्यारण में उसे छोड़ दिया है। कब्र बिज्जू धुलेट के आसपास के क्षेत्र में हो सकते हैं। ग्रामीण इससे दूरी बनाए रखें और कहीं दिखे तो हमें बताएं।

Post a comment

 
Top