सरदारपुर। रोजगार के लिये तहसील क्षैत्र के करीब 7 हजार से अधिक श्रमिक देश के पाॅच राज्यो मे गये थे। जिनमे से लाॅकडाउन के चलते रोजगार बंद होने के चलते कई श्रमिक तो पैदल आ गये लेकिन बचे हुये श्रमिको को लाने के लिये सरकार के द्वारा सर्वे कराकर उन्हे लाने की व्यवस्था की गई। जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी शैलेन्द्र शर्मा ने जानकारी देते हुये बताया की तेहसील क्षैत्र मे श्रमिक परिवारो का आना तीन चरणो मे हुआ। जिनमे  पहला चरण लाॅकडाउन के पहले चरण मे दुसरा दुसरे लाॅक डाउन के बाद तीसरा चरण वर्तमान मे चल रहा है। श्री शर्मा ने बताया की 27 अप्रैल के बाद गुजरात से 7340 श्रमिक परिवार आना चाहते थे। जिनमे से 1369 आ चुके है। वही महाराष्ट्र से 135 श्रमिक परिवार मे से 30 आ चुके है। आंध्रप्रदेश से 5 लोग आना चाहते थे लेकिन अभी तक कोई नही आ पाया। वही राजस्थान से 37 लोग आना चाहते थे 9 आ चुके है। कर्नाटक से 18 लोग आना चाहते थे लेकिन अभी तक कोई नही आ पाया। इस तरह तीन राज्यो से 1408 लोग परिवार सहित आये है। जबकी 6127 श्रमिक परिवार का आना शेष है। उन्हे भी लाने की व्यवस्था की जा रही है। उक्त श्रमिक परिवार राजगढ एंव सरदारपुर निकाय को छोडकर है।

18 हजार मजदुरो को मिल रहा रोजगार -
सीईओ श्री शर्मा ने बताया की श्रमिको को लाने के साथ उनकी स्क्रीनिग की गई। साथ ही इन्हे रोजगार भी उपलब्ध करवाया जा रहा है। वर्तमान मे मनरेगा योजना के तहत तेहसील क्षैत्र की विभीन्न पंचायतो मे चल रहे निर्माण कार्यो मे प्रतिदिन 18 हजार मजदुरो को रोजगार उपलब्ध करवाया जा रहा है। आने वाले दिनो मे यह आंकडा 24 हजार के लक्ष्य के साथ बढेगा। श्री शर्मा ने बताया की लाॅकडाउन के चलते मजदुर वर्ग काफी प्रभावित हुआ है । सरकार की मंशा है की इन्हे स्थानीय स्तर पर ही रोजगार उपलब्ध करवाया जाये जिसके चलते प्रतिदिन मनरेगा योजना के तहत बडी संख्या मे निर्माण कार्य करवाये जा रहे है। वही निर्माण कार्या मे लगे श्रमिको को एक सप्ताह के भीतर ही उनकी मजदुरो का भुगतान भी करवाया जा रहा है।

मजदूरों के लिए पानी एवं स्वल्पाहार की भी व्यवस्था -
अन्य राज्यों लोटे श्रमिकों को रोजगार के साथ उनके लिए पानी की भी व्यवस्था की जा रही है। ग्राम पंचायत हनुमंत्या काग में चल रहे तालाब निर्माण में भी सेकड़ो मजदूर कार्य कर रहे है। उपसरपंच दिनेश चौधरी ने बताया की श्रमिकों को रोजगार मिल रहा है। तालाब पर कार्य करने वाले मजदूरों के लिए पानी एवं स्वल्पाहार की भी व्यवस्था हमारे द्वारा की जा रही है। साथ ही शोसल डिस्टेंसिग का पालन करवाते हुए हाथो को सेनेटाइज भी करवाया जा रहा है। 

Post a comment

 
Top