रमेश प्रजापति, सरदारपुर। कहने को सरदारपुर नगर परिषद जिले की सबसे छोटी नगर परिषदों में से भले ही एक हों लेकिन परिषद परिवार और नगर की जनता के बड़े हौसलों से सरदारपुर ने कचरा मुक्त शहर की सूचि में वन स्टार का दर्जा हासिल कर शहर, जिले का मान प्रदेश में बढ़ाया है। सरदारपुर की उपलब्धि इसलिए भी मायने रखती हैं कि जिले के 11 नगरीय निकायों में से 3 निकायों को यह रैंक मिली हैं जिसमे सरदारपुर भी शामिल हैं।
 वन स्टार का दर्जा पाकर सरदारपुर गदगद है । पवित्र माहि नदी के किनारे बसा यह छोटा सा नगर अपनी ऐतिहासिकता और प्राकृतिक मनोरम के लिए भी जाना जाता हैं। सरदारपुर को मिले इस तमगे से अब नगरवासी इस सफलता को आगे बढ़ाने के लिए संकल्पित भी हुए हैं।
नगर परिषद द्वारा नगर में घर-घर कचरा वाहन के माध्यम से सुबह व संध्या को कचरा एकृतित कर टिंचीग ग्राउंड पर संग्रहीत कर कचरे का निपटान कर खाद बनाने के उपयोग में लिया। साथ ही नगर के सार्वजनिक शौचालयो को दुरूस्त करवाकर शौचालयो पर पेंटीग के माध्यम से नगर की जनत में स्वच्छता के प्रति जागरूकता लाई जाने का कार्य भी किया गया। वही रहवासीयो के निजी शौचालयो निर्माण होने से नगर से गंदगी कोसो दुर हुई एवं नगर परिषद के कर्मचारीयो द्वारा वार्डो में सुबह व संध्या को सफाई कर नगर को स्वच्छ बनाने में विशेष सहयोग रहा। वही नगरवासीयो ने भी पूर्ण सहयोग किया जिसकी बदोलत नगर परिषद सरदारपुर फस्ट स्टार रेंटिग प्राप्त की है। परिषद की इस सफलता पर नगर परिषद को विधायक सहित प्रशासनिक अधिकारियों एवं राजनितिक दलों के नेताओ ने बधाई दी हैं।
30 सफाई संरक्षको एवं कर्मचारियों की रही अथक मेहनत - 
नगर परिषद को स्टार रेटिंग मिलने के पीछे नगर परिषद के सफाई संरक्षको की मेहनत भी सराहनीय रही हैं। नगर परिषद अध्यक्ष महेश भाबर एवं सीएमओ चंद्रकांत जैन ने बताया कि नगर की इस उपलब्धि में परिषद में कार्यरत 30 सफाई संरक्षक (महिला-पुरुष) की अथक मेहनत रही हैं। इनके द्वारा सुबह व शाम को डोर-टू-डोर कचरा संग्रहण करना एवं रात्रि में भी नगर की साफ-सफाई कर नगर को यह उपलब्धि हासिल करवाई है। परिषद के अधिकारी एवं कर्मचारियों के साथ ही नगर की जनता का इसमें विशेष योगदान रहा है। नगर की जनता का हम आभार व्यक्त करते हैं, साथ ही यह आशा भी करते हैं कि नगरवासी अपने नगर को कचरा मुक्त ही बनाए रखेंगे।

समय-समय पर निकाली रैली, की जनता से अपील - 
नगर परिषद उपाध्यक्ष प्रीति मनीष श्रीवास्तव ने बताया कि नगर को कचरा मुक्त बनाने हेतु नगर की दीवारों पर पेंटिग बनवाई जिनके साथ नारे लिखवाएं गए साथ ही नगर में फ़्लेक्स भी लगाए एवं समय-समय पर रैली निकालकर इस हेतु नगरवासियों को जागरूक किया। इसकी बदौलत नगर को यह सफलता हासिल हुई है। वही स्वच्छता प्रभारी अरुण गोखले ने बताया कचरा मुक्त शहर में सरदारपुर को स्टार रेटिंग प्राप्त होने के पीछे नगरवासियों का भी योगदान रहा है। सुबह एवं शाम को 2 कचरा वाहन से नगर से 1 टन कचरा एकत्रित कर कचरे को ठोस प्रबंधन केंद्र पर भेजा जाता हैं। जहाँ कचरे को अलग-अलग किया जाता हैं। सफाई संरक्षक की मेहनत एवं परिषद के अधिकारियों एवं कर्मचारियों के मार्गदर्शन में आगे भी शहर कचरा मुक्त रहेगा। ऐसी आशा करते हैं।

Post a comment

 
Top