अमझेरा। अमझेरा थानांतर्गत पिछले दिनों समीपस्थ ग्राम पंथा के सुखे नाले में अज्ञात व्यक्ति की लाश मिलने का मामला आया था जो बाद में हत्या में बदल गया था। इस पुरे मामले पर अमझेरा पुलिस की लगातार जांच की जा रही थी तथा घटना के 11 दिनों में इस अंधेकत्ल का पर्दाफाश करते हुए दोनो हत्यारो एवं घटना में प्रयुक्त मोटरसाईकिल को जप्त कर लिया गया है। सरदारपुर एसडीओपी ऐश्वर्य शास्त्री के द्वारा मामले का खुलासा करते हुए बताया गया कि अज्ञात लाश  की पहचान नारायण पिता अनोखीलाल निवासी ग्राम बड़ोदिया के रूप में परिजनों के द्वारा की गई थी। पुलिस विवेचना के आधार पर मुखबीर की सूचना पर जब संतोष पिता रामचंद्र भील निवासी ग्राम धोलाहनुमान एवं मुकेश पिता सालसिंह भील निवासी ग्राम धोलाहनुुमान को पकड़ कर सख्ती से पुछताछ की तो उन्हौनेेे अपना जुर्म कबुल करतेे हुए बताया कि आपसी रंजीश एवं विवाद के कारण उन्हौने जंगल में नारायण की गला दबाकर हत्या कर दी तथा उसकी लाश को बिना नंबर की मोटरसाईकिल पर ले जाकर नाले में फेंक दी थी। पुुलिस द्वारा दोनो आरोपियों को गिरफ्तार कर उनके खिलाफ भादवी की धारा 302 एवं 201 के तहत अपराध पंजीबद्ध किया गया है। उन्हौने बताया कि उक्त घटना के पर्दाफाष पुलिस अधिक्षक आदित्य प्रतापसिंह,अतिरिक्त पुुलिस अधिक्षक देवेन्द्र पाटीदार के निर्देषन में अमझेरा थाना प्रभारी रतनलाल मीणा व उनकी पुरी टिम के उपनिरीक्षक राजेन्द्र्रसिंह सिगोड़, सहायक उपनिरीक्षक अजय वर्मा, प्रमोद चौहान, प्रधान आरक्षक अरूण, राकेश कुमार एवं आरक्षक राजा सेन, रामगोपाल, रतनसिंह कटारे, मंगलसिंह, संजय, आशाराम, अरूण की सराहनिय भुमिका रही।

Post a comment

 
Top