अमझेरा। गुजरात प्रांत के विभिन्न शहरों से अमझेरा क्षैत्र के जो श्रमिक मजदुर रोजगार के आस में गये थे अब लॉकडाउन के कारण वे अपने ग्रामो की ओर लोट रहे है जिसके कारण बड़ी संख्या में ये श्रमिक मजदुर बसों में भर-भर कर बड़ी संख्या में इन्दौर-अहमदाबाद हाईवे के मांगोद पर उतर रहे है और यहाॅ से ये लोग बिना स्क्रिीनिंग कराये पैदल ही कई किलोमीटर की दुरी तय कर अपने वनग्रामों में पहुंच रहे है। तथा यही लोग सबसे ज्यादा अमझेरा मार्केट में खरीदी केे लिए पहुंच रहे है जिससे बाजार में बड़ी संख्या में भीड़ बढ़ जाती हैं स्थानिय पुलिस प्रशासन बढ़ती भीड़ को रोकने का प्रयास करती है लेकिन पुलिस के वाहन को देखकर लोग इधर-उधर भाग जाते है और उनके जाते ही पुनः बाजार में आ जाते है। वर्तमान में नियमानुसार एक दिन के अंतराल से चार घंटे के लिए किराना दुकाने खुल रही है तथा इसी दौरान बाजार में भीड़ भी हो जाती है। वहीं दुसरी ओेर बैंको में आ रही राषी को निकालने के लिए भी आस-पास के ग्रामिण अंचलो से बड़ी संख्या में लोग अमझेरा आ रहे है जिसके कारण अमझेरा में कोरोना महामारी फैलने का अंदेषा बढ़ गया है क्योंकि ना तो सामाजिक दुरी का ध्यान रखा जा रहा है ना ही मास्क,सेनेटाईजर आदि का सही तरह से उपयोग नहीं किया जा रहा है। मुख्य बाजार में भीड़ बढ़ने का एक कारण यह है कि यहाॅ किराना दुकानो के साथ ही सब्जी और फल-फ्रुट वाले सभी एक जगह एकत्रित होकर क्रय-विक्रय करने लग जाते है और ये लोग भी अपने पास सेनेटाईजर आदि नहीं रखते हुए सुरक्षा नियमों का पालन नहीं करते है। अमझेरा नगर में सबसे ज्यादा भीड़ आस-पास के ग्रामिण अंचलो से आ रही है जिसमे बड़ी संख्या में खाताधारक अपनी राशी लेने के लिए और किराना व अन्य जरूरी सामान लेने के लिए पहुंच रहे है लेकिन इनकी बढ़ती भीड़ के कारण अमझेरा कोराना महामारी फैलने का संकंट मंडराने लगा है क्योंकि इनमें से अधिकतर वे ही लोग है जो गुजरात से श्रमिक मजदुर के रूप में यहाॅं पहुंचे है। गुजरात से आने वाली बसें अधिकतर अलसुबह मांगोद पहुंच जाती है लेकिन वहां पर इनकी स्क्रीनिंग करने की प्रशासन के द्वारा कोई सुविधा नहीं की गई है जिसे कारण यह बिना स्क्रीनिंग के ही अपने गंतव्य तक पहुंच रहे हैं जो सभी के लिये चिंता का विषय है।

Post a comment

 
Top