भोपाल। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने बताया है कि प्रदेश में कोरोना के एक्टिव केसेस की संख्या में निरंतर कमी आ रही है। जितने नए पॉजिटिव प्रकरण मिल रहे हैं, उनसे कहीं अधिक कोरोना मरीज स्वस्थ होकर अपने घर जा रहे हैं। उज्जैन जिले की व्यवस्थाओं पर विशेष ध्यान दिए जाने की आवश्यकता है। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज मंत्रालय में वीसी के माध्यम से प्रदेश में कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा कर रहे थे। बैठक में स्वास्थ्य मंत्री श्री नरोत्तम मिश्रा, मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य श्री मोहम्मद सुलेमान तथा अन्य संबंधित उपस्थित थे।

132 डिस्चार्ज 114 नए प्रकरण -
एसीएस हेल्थ श्री मोहम्मद सुलेमान ने बताया कि 7 मई को प्रदेश में प्राप्त कोरोना टेस्ट रिपोर्ट के अनुसार प्रदेश में कोरोना के 114 नए प्रकरण मिले हैं। वहीं 132 मरीज स्वस्थ होकर घर लौटे हैं। प्रदेश में कोरोना के एक्टिव प्रकरण की संख्या 26 कम हुई है। अब प्रदेश में करोना के एक्टिव प्रकरण 1828 है।

उज्जैन में विशेषज्ञ चिकित्सक लगाएं -
उज्जैन जिले की समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री श्री चौहान ने  निर्देश दिए कि उज्जैन में विशेषज्ञ चिकित्सक लगाए जाएं। हमें पूरा प्रयास करना होगा कि वहां एक भी संक्रमित की कोरोना से मृत्यु न हो।  आरडी गार्डी अस्पताल के अलावा उज्जैन में  ट्रॉमा सेंटर भी शीघ्र कोविड अस्पताल के रूप में प्रारंभ हो जाएगा।  इसके अलावा भंडारी अस्पताल इंदौर में भी 100 बेड उज्जैन के लिए आरक्षित कर दिए गए हैं। नवागत कलेक्टर ने बताया कि उज्जैन में जहां एक और गहन सर्वे कार्य किए जाकर कोरोना टेस्ट की संख्या को बढ़ाया गया है, वहीं अस्पताल में मरीजों के स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि  कार्य में समाज के सभी वर्गों का सहयोग लिया जाए। मुख्य सचिव श्री बैंस ने निर्देश दिए कि बड़नगर की व्यवस्थाओं की दोबारा समीक्षा की जाए।

Post a comment

 
Top