भोपाल। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में कोरोना नियंत्रण के लिये दीर्घ अवधि और अल्प अवधि की योजनाओं पर कार्य किया जायेगा। लॉकडाउन की अवधि में राज्य में आर्थिक गतिविधियाँ हों, पर्याप्त सावधानी भी बरती जाये, श्रमिकों को रोजगार भी मिले इसका पूरा ध्यान रखा जायेगा। वर्तमान में प्रदेश में मनरेगा कार्यो से 17 लाख से अधिक मजदूरों को काम मिला है और उनके लिये रोजी-रोटी की पुख्ता व्यवस्था हुई है। गत वर्ष करीब 11 लाख श्रमिकों को ही कार्य मिला था । इस तरह कोरोना संकट के समय 6 लाख से अधिक जरूरतमंदों को कार्यों से जोड़ा गया है। आत्मनिर्भर भारत और आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश की दिशा में निरंतर प्रयास होंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज मंत्रालय से वीडियो काँफ्रेंसिंग द्वारा मीडिया प्रतिनिधियों से चर्चा कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मीडिया से प्राप्त सुझाव महत्वपूर्ण हैं, जो कोरोना नियंत्रण में उपयोगी सिद्ध होंगे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मीडिया लोकतंत्र का आधार स्तम्भ है। इस नाते सदैव से अलग स्थान मीडिया का रहा है। जब कोई ऐसी चुनौती देश प्रदेश, आम जनता के सामने हो उससे निपटने में मीडिया के सुझाव हमेशा सहयोगी साबित होते हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में कोरोना वायरस पर नियंत्रण प्रभावी तरीके से हो रहा है। प्रदेश में रिकवरी रेट बढ़ रहा है जो बढ़कर 48 प्रतिशत हो गया है। प्रदेश में एग्रेसिव सेम्पलिंग शुरू की गई है। कोरोना से बचाव के लिए लॉकडाउन एक मात्र तरीका है। प्रधानमंत्री जी ने तीन बार लॉकडाउन घोषित किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि निश्चित ही इस दौर में मीडिया की भूमिका के लिये विशेष रूप से आभार मानता हूँ, क्योंकि मीडिया ने जनता को जागरूक किया और इसे अपना सामाजिक दायित्व माना। अब लॉकडाउन-4 के संबंध में बात हो रही है। यह प्रधानमंत्री जी ने राज्यों पर छोड़ा है। इसलिये मुझे लगा कि मीडिया के मित्रों से विचार विमर्श करूँ। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मैं आश्वस्त हूँ कि आपके सहयोग और समाज के सहयोग से कारगर रणनीति पर अमल हो रहा है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि राज्य में उपचार के बेहतर प्रबंध किये गये हैं। प्रदेश में बेड संख्या निरंतर बढ़ी है। शीघ्र ही एक लाख तक बेड तैयार हो जायेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि यह वास्तविकता है कि कोरोना पर पूर्ण अंकुश के लिये कोई वेक्सीन नहीं बनी है इसलिये कोरोना के साथ जीना सीखना होगा। समाज को जागरूक करना होगा। जन-जागरण के लिये आपका सहयोग आवश्यक है। प्रवासी मजदूर लौट रहे हैं। दूसरे प्रदेशों के श्रमिकों के लिये भी मानवीय संवेदनाओं को ध्यान में रखा गया है। समाज में निराशा के भाव न आयें। प्रारंभ में डेथ रेट ज्यादा थी। अब हमारी रिकवरी रेट ज्यादा है। इलाज समय पर होगा तो मरीज ठीक हो जायेगा। समाज का उत्साह व आत्मविश्वास बना रहे। ये भाव मीडिया पैदा कर सकता है। क्राइसिस मेनेजमेंट ग्रुप बने हैं। राजनेताओं से और समाज के प्रमुख लोगों से भी चर्चा की है। इसी क्रम में मीडिया के सुझाव भी ठीक दिशा में ले जाने में सहयोगी होंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मीडिया के सभी साथियों को हृदय से धन्यवाद देते हुये कहा कि आप सभी ने कोरोना और लॉकडाउन पर जो सुझाव दिये हैं, उसके अनुरूप आगे की रणनीति तय करने में मदद मिलेगी। वीडियो काँफ्रेंसिंग में प्रमुख सचिव जनसम्पर्क श्री अनुपम राजन, आयुक्त जनसम्पर्क श्री सुदाम खाड़े और संचालक जनसम्पर्क एवं अपर सचिव मुख्यमंत्री श्री ओम प्रकाश श्रीवास्तव उपस्थित थे।

Post a comment

 
Top