अमझेरा। (विक्रम सिंह राठौर) अमझेरा के वनक्षेत्र में तेंदुए के लगातार हमलों से एक बार फिर से लोगो में भय और दहशत का माहौल कायम हो गया है। बुधवार की दोपहर बड़खोदरा के पास आड़ीपालवालेे नाले के पास बच्चे बकरीयाॅ चरा रहे थे तभी घात लगाकर बैठे तेंदुए ने बकरीयों पर हमला कर दिया जिससेे डर कर बच्चे शोर मचाते हुए घर की ओर भागे तो ग्रामिणजन बकरीयों को बचाने के लिए गये लेकिन तेंदुए ने उन्हे पंजा मार दिया जिससे मगन पिता इंदर निवासी ग्राम बड़खोदरा एवं दिलीप पिता सुरभान निवासी ग्राम रामगढ़ घायल हो गये जिन्हे इलाज के लिए अमझेरा के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र लाया गया जहाॅ उनका डाॅ.ए.के.चोधरी के द्वारा इलाज कर घर भेज दिया गया। इधर तेंदुए की खबर  लगते ही अमझेरा वनक्षेत्र के प्रभारी रामसिंह वास्केल, बिडगार्ड निर्मल डावर एवं मनोहर मेड़ा तुरंत ही घटना स्थल पर पहुंचे एवं घटना स्थल का निरीक्षण किया ओर वरिष्ठ अधिकारीयों को मामले से अवगत कराया गया । उनके द्वारा बताया गया कि हमला करने वाला जानवर तेंदुआ ही है। उन्होने वहाॅ के लोगो को सावधान करते हुए समझाइश दी कि वे अपने घरो के बाहर ना सोयेे एवं बच्चों को अकेले जंगल में बकरीयों को चराने के लिए ना भेजे। इस संबंध में वनविभाग सरदारपुर के उपमंडलाधिकारी राकेश डामोर नेे बताया कि उन्हे उक्त घटना की जानकारी मिल चुकी है तथा शिघ्र ही घटना स्थल का निरीक्षण कर आगे की कार्यवाही की जावेगी।  गौरतलब है कि दो दिन पूर्व ही नरभक्षी तेंदुए को पिंजरेे के द्वारा पकडा गया है ऐसे में एक ओर तेंदुए की उपस्थिति ने लॉकडाउन के समय सभी की परेशानीयों कोे बढ़ा दिया है।

Post a comment

 
Top