विक्रम सिंह राठोर, अमझेरा। विगत दिनों अमझेरा के पास  ग्राम हाथीपावा में नरभक्षी तेंदुए के द्वारा 8 वर्षीय बालिका को मौत के घाट उतारने के बाद क्षेत्रीय वन विभाग और रालामंडल इंदौर से आई रेस्क्यू दल के द्वारा आदमखोर तेंदुए को पकड़ने के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे हैं जिसके तहत पहले घटनास्थल के समीप एक पिंजरा लगाकर प्रयास किए गए थे लेकिन वन विभाग को किसी प्रकार की कोई सफलता नहीं मिली और उसकी तलाश सघन जंगलों में लगातार की गई जहां उसके पगमार्ग दिखाई दिए उसके बाद वन विभाग ने एक और पिंजरा जंगल में लगाकर नरभक्षी तेंदुए को पकड़ने के प्रयास किए इस दौरान तेंदुए ने दो बकरियों का शिकार भी कर दिया। वन विभाग की आशाओं पर तब पानी फिर गया जब तेंदुआ पिंजरे के अंदर बंधी हुई बकरी का शिकार कर वापस जंगल में चला गया इस दौरान पिंजरे के दरवाजे किसी कारणवश बंद नहीं हो सके और तेंदुआ एक बार फिर वन विभाग की गिरफ्त से दूर चला गया अमझेरा वन विभाग के प्रभारी रामसिंह वास्केल ने जानकारी देते हुए बताया की तेंदुआ पिंजरे में आया था लेकिन दरवाजे में किसी रुकावट आ जाने से वह नीचे नहीं गिर पाया और वह नरभक्षी तेंदुआ बकरी का शिकार कर फिर से जंगल में चला गया है नरभक्षी तेंदुए को पकड़ने के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे हैं उम्मीद है शीघ्र ही तेंदुआ हमारी गिरफ्त में होगा l
इंदौर वन विभाग के मुख्य संरक्षक केपी निनामा, वनमंडल अधिकारी धार एल एम उईके ,सरदारपुर उपविभागीय अधिकारी राकेश डामोर उक्त घटना पर पूरी नजर बनाए हुए हैं इसके साथ ही अमझेरा वन वन विभाग के प्रभारी रामसिंह वास्केल, सरदारपुर वन परिक्षेत्र अधिकारी विजय कुमार वर्मा, प्रभारी केपी मिश्रा, बिड़गार्ड निर्मल डाबर प्रताप गोयल अमित मालवी आदि अन्य  रेस्क्यू  दल के साथ दिन रात तेंदुए को पकड़ने की कोशिश में लगे हुए हैं।

Post a comment

 
Top