अमझेरा। देश और दुनिया में वैश्विक कोरोना महामारी तेजी के साथ फैलती जा रही है और उसे रोकने के लिए सरकार के द्वारा हर संभव कदम उठाए जा रहे हैं तथा वर्तमान में 3 मई तक लॉकडाउन लगा हुआ है संकट के इस समय में सरकार के द्वारा गरीब लोगों के लिए जनधन खातों में ₹500 की राशि सहायता के लिए पहुंचाई जा रही है लेकिन यह सहायता कोरोना संकट पर ही भारी पड़ती नजर आ रही है क्योंकि बैंक शाखाओं में बड़ी संख्या में लोग ₹500 की राशि निकालने के लिए पहुंच रहे हैं तथा भीड़ कर रहे हैं भीड़ को देखकर बैंक प्रबंधन के भी हाथ-पांव फूल रहे हैं तथा इस भीड़ को नियंत्रण करने मैं सफल नहीं हो पा रहे हैं वही  शासन प्रशासन के द्वारा अभी तक कोई ठोस कदम नहीं उठाए जा रहे हैं जिसे कारण कोरोना महामारी फैलने का संकट ग्रामीण क्षेत्रों में भी गहराने लगा है इस गंभीर बीमारी में सोशल डिस्टेंसिंग रखना सबसे महत्वपूर्ण बताया जा रहा है लेकिन बैंकों के बाहर लग रही लंबी-लंबी  लोगों की कतारों ने सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां बिखेर कर रख दी है और वर्तमान में टू व्हीलर फोर व्हीलर वाहनों पर भी पूर्ण प्रतिबंध लगा हुआ है लेकिन ग्रामीण अंचलों से वनवासी क्षेत्रों से बड़ी संख्या में ग्रामीण एक ही मोटरसाइकिल पर तीन से चार लोग बैठकर बैंक शाखाओं और किओस्क सेंटर तक पहुंच रहे हैं लोगों में अफवाह के कारण यह भी डर है की सरकार ने जो उनके खातों में ₹500 की राशि डाली है वह कहीं वापस ना ले ले इसके लिए वे सुबह से ही बैंक शाखाओं के बाहर आकर अपना नंबर लगा कर बैठ जाते हैं हालांकि बैंक प्रबंधन के द्वारा गोल घेरे बनाए गए हैं लेकिन लोगों की बढ़ती भीड़ के कारण यह गोल घेरे कहीं दिखाई नहीं दे रहे हैं यदि शीघ्र ही इस बढ़ती हुई भीड़ को रोकने के लिए कोई उचित कदम नहीं उठाए गए तो कोरोना महामारी  गांव और कस्बों मे दस्तक दे सकती है।

Post a comment

 
Top