राजगढ़। समीप गांव अमोदिया में 6 अप्रैल की रात्रि में हुए गोलीकांड के मामले का आज पुलिस ने खुलासा किया है। राजगढ़ थाने पर प्रेसवार्ता करते हुए जिला पुलिस अधिक्षक आदित्य प्रतापसिंह ने घटना का खुलासा किया। पुलिस ने किसान पिता -पुत्र की गोली मारकर हत्या करने वाले 6 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। इन 6 आरोपियों में एक आरोपी नाबालिक भी है। पुलिस एक बाइक की टूटी हुई नम्बर प्लेट के जरिए घटना को अंजाम देने वाले आरोपियो तक पहुँची है।

दरअसल 6 अप्रेल की रात्री के समय अज्ञात बदमाशों द्वारा ग्राम अमोदिया में दौलतराम पिता रामाजी सोलंकी सिर्वी  (60 वर्ष) के खेत पर रखे प्याज के कट्टे चोरी किये जा रहे थे। किसान दौलतराम सोलंकी अपने पुत्र संजय सोलंकी के साथ रात्री में करीब 8.30 बजे प्याज की रखवाली व देखरेख को पंहुचकर देखे तो वहां उनके रखे प्याज के कुल कट्टों में से 08 कट्टे प्याज के कम मिले तब संजय ने अपने छोटे भाई बबलु को फोन लगाकर प्याज के 8 कट्टे कम होने की जानकारी दी तो संजय का छोटा भाई बबलु और हरीराम उर्फ प्रभु मोटर सायकल से खेत पहुचे और उन्होंने देखा की कुछ लोग मोटर सायकल पर प्याज के कट्टे चोरी कर भाग रहे है। प्याज कट्टे चोरों का करीब 400 मीटर तक पीछा बबलु और हरीराम ने अपनी मोटर सायकल से करके पलवी बयडा धुलेट सोनगढ रोड पर एक मोटर सायकल वाले बदमाश को पकड लिया। वहीं पर संजय और दौलतराम भी पीछे से आ गये लेकिन पकडे गये बदमाश को छुडाने वापस पलट कर आये साथियों में से एक व्यक्ति ने किसानों पर बंदुक से 4 फायर कर  दिये जिससे एक गोली बबलु के सीने पर और एक गोली दौलतराम की नाभी के पास लगने से ईलाज के लिये ले जाते वक्त बबलु की मृत्यु रास्ते में ही हो गई तथा उपचार के दौरान दौलातराम की मृत्यु हो गई। घटना वक्त फायर करने से संजय को छर्रा लगा तथा हरीराम को बंदुक के कुंदे से मारने पर उसके दाहिने पैर में चोट लगी थी।
टूटी हुई नम्बर प्लेट बनी आरोपियो तक पहुँचने का जरिया - 
घटना का खुलासा करते हुए एसपी आदित्य प्रताप सिंह ने बताया कि उक्त घटना के आरोपियो तक पहुँचने में एक बाइक के नम्बर प्लेट का टुटा हुआ टुकड़ा काफी मददगार बना। एसपी ने बताया कि घटना की जाँच के दौरान घटनास्थल के आसपास से पुलिस को बाइक की नम्बर प्लेट का टुटा हुआ टुकड़ा मिला था। जिसके बाद से उक्त बाइक का पता लगाने में पुलिस जुट गई एवं मुखबरी की सूचना पर पुलिस ने  उक्त बाइक क्रमांक एमपी 45 एमसी 5497 को पारा के समीप कलमोड़ा गांव से जप्त की। जिसके बाद से सभी आरोपियो तक पहुँचने में पुलिस को बाइक का टुकड़ा काफी मदगार बना।

नाबालिक सहित 6 आरोपियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार - 
धार एसपी आदित्य प्रताप सिहं (भा.पु.से.) एवं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक  दैवेन्द्र पाटीदार (रा.पु.से.) द्वारा एसडीओपी सरदारपुर ऐश्वर्य शास्त्री (रा.पु.से.), थाना प्रभारी प्रशिक्षु डीएसपी शक्ति सिहं चौहान (रा.पु.से.) तथा उपनिरीक्षक लोकेश सिहं भदौरिया के साथ थाना प्रभारी अमझेरा, थाना प्रभारी बाग, थाना प्रभारी राजोद, थाना प्रभारी टाण्डा, थाना प्रभारी गंधवानी एवं चौकी प्रभारी रिंगनोद  की टीम गठित कर दोहरे अन्धे हत्याकांड की पतारसी करने हेतु निर्देशित किया था। जिसके तारतम्य में एसडीओपी सरदारपुर ऐश्वर्य शास्त्री, प्रशिक्षु डीएसपी शक्ति सिहं चौहान, एसआई लोकेश सिहं भदौरिया, एसआई बलजीत सिहं, निरीक्षक आरएल मीणा तथा टीम द्वारा लगातार प्रकरण व घटना स्थल से जुडे हर पहलुओं की जांच की गई। इस दौरान दिनांक 25 अप्रैल को मुखबीर द्वारा सूचना मिली की घटना दिनांक को  घटना वक्त मौके पर देखे गये संदेही राजु, कैलाश, उमेश और बदिया, भाटियाबयडी के राजु के घर पर मौजुद है । जिस पर से थाना राजगढ के प्रशिक्षु डीएसपी शक्ति सिह एवं एसआई लोकेश सिह भदौरिया व टीम द्वारा घेराबंदी कर 4 लोगो को पकडा गया। जिनसे सघन पुछताछ पर आरोपीयो द्वारा अमोदिया की घटना करना स्वीकार किया और बताया की दिनांक 6 अप्रैल को  1.कैलाश पिता कसना वसुनिया जाति भील, उम्र 22 साल, निवासी भाटिया बयडी थाना राजगढ, 2. बदिया पिता लक्ष्मण गामड जाति भील, उम्र 27 साल, निवासी टिकमाझिरी थाना राजगढ, 3. उमेश पिता मंगतिया भूरिया जाति भील, उम्र 20 साल, निवासी ग्राम कलमोडा पारा जिला झाबुआ, 4. राजु पिता गुला डामोर जाति भील, उम्र 27 साल, निवासी भाटियाबयडी थाना राजगढ, 5. हरसिह पिता बालुसिह मोहनीया भील, निवासी टिकमाझिरी एवं एक नाबालिक आरोपी निवासी सोनगढ़  ने मिलकर ग्राम अमोदिया मे किसान के खेत से 8 कट्टे प्याज के चुराए थे, प्याज चोरी करते वक्त किसानो के आ जाने से और किसानो द्वारा मोटर सायकल से पीछा कर उनके साथी उमेश को पकड लेने पर उमेश को छुडाने के लिए राजू ने अपने पास की 12 बोर बंदुक से 4 फायर किए थे जिससे दो किसानो की मौत हो गई थी और वे लोग वहां से भाग गए थे।
घटना का एक आरोपी फरार - 
धार एसपी ने प्रेसवार्ता में बताया की घटना के संबंध मे आरोपीयो से और अधिक पूछताछ पर आरोपी राजू ने घटना मे उपयोग की गई 12 बोर बंदुक व कारतूस ग्राम टिकमाझिरी के कुवर सिह से लेकर आना बताया जिस पर से कुवर सिह पिता बालुसिह मोहनीया भील, उम्र 31 साल, निवासी टिकमाझिरी को भी प्रकरण मे गिरफ्तार कर कारतुस व 12 बोर बंदूक के संबध मे पूछताछ तथा घटना समय से फरार चल रहे आरोपी हरसिह की तलाश पतारसी की जा रही है ।


12 बोर बंदूक तीन बाइक सहित प्याज के कट्टे किए जप्त- 
पुलिस ने पकडे गए बदमाशो से घटना मे प्रयुक्त 12 बोर की बंदूक, घटना वक्त उपयोग की गई 3 मोटर सायकले एवं चोरी किया गया सारा माल कुल मश्रुका किमत 03 लाख रुपये का जप्त किया गया है। गिरफ्तार किये गये आरोपियो मे से आरोपी कैलाश के विरूद्व थाना राजगढ मे अपराध क्र. 72/20 धारा 25 बी आर्म्स एक्ट तथा ओरापी कुंवरसिंह के विरूद्व अपराध क्र. 118/18 धारा 294, 323, 506, 34 भादवि तथा अपराध क्र. 532/19 धारा 294, 323, 506, 34 भादवि के अपराध दर्ज है।

आरोपियों तक पहुंचने में इनका रहा योगदान -  
जिला पुलिस अधीक्षक धार द्वारा प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए पूर्व  मे ही अज्ञात बदमाशो पर प्रत्येक पर 10 हजार रुपये ईनाम की उद्घघोषणा की गई थी। प्रकरण मे गिरफ्तार 6 आरोपियो की कुल ईनाम राशी 60 हजार रुपये के ईनामी आरोपियो की पतारसी व गिरफ्तार करने मे एसडीओपी सरदारपुर ऐश्वर्य शास्त्री, प्रशिक्षु डीएसपी शक्ति सिह चौहान, एसआई लोकेश सिह भदोरिया, उप निरीक्षक बलजीत सिह, एसआई पेमा भूरिया, निरीक्षक आरएल मीणा, एएसआई अब्दुल जाकीर खान, एएसआई राजाराम भगोरे, एएसआई विजय मिश्रा, एएसआई वसना चौहान, प्रधान आरक्षक दिवाकर, प्रधान आरक्षक सैयद,  प्रधान आरक्षक दयाराम,  आरक्षक सर्वेश सिंह सोलंकी, आरक्षक जितेन्द्र भूरिया, आरक्षक प्रेमपाल, आरक्षक कलसिंह भूरिया, आरक्षक गुलाब, आरक्षक नंदराम एवं महिला आरक्षक पूजा पंवार की महत्वपुर्ण भूमिका रही। 

Post a comment

 
Top