नई दिल्ली। कोरोना वायरस के बड़े खतरे से जूझ रहे देश को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को एक छोटे से वीडियो के जरिए संबोधित किया।​ प्रधानमंत्री ने जनता कर्फ्यू के बारे में बात करते हुए कहा कि सेवा में लगे लोगों के प्रति एकजुटता दिखाकर देश की जनता ने देश की सामूहिक शक्ति का प्रदर्शन किया था। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि कोरोना से देश एकजुट होकर लड़ सकता है, यह दिख रहा है। उन्होंने लॉकडाउन का जिक्र करते हुए कहा कि लोग सोचते होंगे कि वे अकेले क्या कर सकते हैं, लेकिन हम अपने घरों में भी अकेले नहीं हैं, बल्कि 130 करोड़ देशवासियों के साथ हर व्यक्ति का संबंध है।

'9 अप्रैल को कराना है प्रकाश की शक्ति का अहसास' -
उन्होंने कहा कि 5 अप्रैल को हमें 130 करोड़ देशवासियों की महाशक्ति का जागरण करना है। पीएम ने कहा कि रविवार 5 अप्रैल को रात 9 बजे मैं आप सबके 9 मिनट चाहता हूं, और इस दौरान घर के दरवाजे या बालकनी पर खड़े होकर दिया, मोमबत्ती या फ्लैशलाइट्स जलाएं। प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि इस मौके पर लोगों को इकट्ठा नहीं होना है। बता दें कि जनता कर्फ्यू के दिन कई लोग थालियां और तालियां बजाते हुए गलियों और सड़कों पर निकल आए थे।

पीएम ने मुख्यमंत्रियों से की बात
देशभर में गुरुवार को कोरोना वायरस के 500 से अधिक मामले सामने आने के साथ संक्रमितों की संख्या 2,500 को पार कर गई, जबकि इनमें से 76 लोगों की मौत हो चुकी है। पीएम मोदी ने गुरुवार को मुख्यमंत्रियों से कोविड-19 को फैलने से रोकने के लिए अगले कुछ सप्ताह तक लोगों की जांच करने, संक्रमितों का पता लगाने, उन्हें पृथक रखने जैसे उपायों पर ध्यान देने को कहा ताकि जीवन का नुकसान कम से कम हो। उन्होंने लॉकडाउन समाप्त होने के बाद सड़कों पर लोगों की आवाजाही ‘क्रमबद्ध ढंग’ से सुनिश्चित करने के बारे में राज्यों से साझा रणनीति बनाने को भी कहा है।


Post a comment

 
Top