राजेश शर्मा, वरिष्ठ पत्रकार, विचारक 
98938 77004, 9009477004

फिर उठूँगा, बढूँगा
फलक तक चढूँगा
मैं सूरज हूँ
उगना, ढलना,
आदत है मेरी,
टुट के पल में खो जायें,
वो तारा नही हूं में....
बस थोड़ा पीछे हुआ हूँ
अभी हारा नही हूँ मैं...
एक वायरस से छिड़ी वैश्विक जंग के बीच... दुनिया को भारत इन पंक्तियों से यही संदेश दे रहा है कि विपदाओं और चुनौतियों से कह दो जरा... हिन्दोस्तां से चले जाएं। संघर्ष के सफर में हर बार उठ खड़ा हुआ है इंडिया... यही ताकत है भारत की... भारतीयता की...
"फिर मुस्कुराएंगा इंडिया, जो साथ दे सारा इंडिया" गीत के ये बोल हर भारतीय की रगों में एकता का शंखनाद कर मानों कह रहे है कि जंग को जीत कर हम दिखा देंगे, ऐसा ग्रेट है मेरा इंडिया।
स्वातंत्रय समर की लड़ाई छोटी नही थी... संघर्ष... यातना... जुल्म क्या-क्या नही सहे थे उन स्वातंत्रय के वीरों ने... पर उनके दिल में  जुनून था जंग को जीतने का...।
आधुनिक भारत अर्थात माॅर्डन इंडिया ग्लोबलाईजेशन के इस दौर में दुनिया के समृद्ध देशों की तरह ही कोरोना रूपी वायरस से जंग लड़ रहा है... मकसद साफ है लड़ाई में, जंग में विजय हासिल करना। भारत बढ़ रहा है करोड़ो भारतीयों के हौसलों के दम पर... लड़ाई में भारत के कदमों की चर्चा दुनिया भर में हो रही है और हो भी क्यों न आखिर भारत की रगों में हिन्दुस्तान के कर्मयोद्धा, कोरोना वाॅरियर्स, फाईटर्स जीत का मंत्र जो फूंक रहे है।
वैश्विक महामारी कोरोना की गति पर करोड़ो भारतीयों का जुनून और जज्बा भारी है...। आज दुनिया के समक्ष भारत एक नई संभावना... नई उम्मीदे... और नव संदेश दे रहा है। एकता के सूत्र में बंधा भारत यह भी बयां कर रहा है कि जुनून... जज्बे और जीवटता से कोरोना रूपी वैश्विक जंग में भारत ताकत के साथ उठ खड़ा होगा।
क्या खूब कहा है...
"है बात कुछ ऐसी कि हस्ती मिटती नही हमारी, सदियों रहा है दुश्मन दौरे जहां हमारा।"
यही है भारत की ताकत... यही है एक महान और गौरवशाली भारत की तस्वीर।

मौजूं दौर में यही कहा जा सकता है कि भारत भूमि में मानवीय संवेदना, देभशक्ति और इंसानियत का जो ज्वार उठा है सच यह एक नये भारत अर्थात न्यू इंडिया का उदय है...
लेखक राजेश शर्मा का परिचय
वर्तमान में संपूर्ण विश्व कोरोना वायरस से जंग लड रहा है। जंग में मानवता के कई ऐसे प्रहरी है जो जंग से मानव जाति को उबारने के लिए प्रण और प्राण से जुटे है। इस समसामयिक एवं विश्वव्यापी ज्वलंत समस्या पर तीक्ष्ण दृष्टि डालता आलेख मप्र की राजा भोज की ऐतिहासिक नगरी धार के वरिष्ठ पत्रकार, लेखक, विचारक राजेश शर्मा ने लिखा है। लेखक राजेश शर्मा की ख्याति राज्य स्तरीय अधिमान्य पत्रकार मप्र शासन होकर लेखक, विचारक एवं प्रशासनिक परीक्षा के एक्सपर्ट के रूप में है। आपके मार्गदर्शन में कई युवा प्रशासनिक अधिकारी के पद पर कार्यरत है। आपने पीएससी परीक्षा एवं पत्रकारिता पर कई पुस्तकों की रचना की है। आप प्रदेश शासन की इंदौर संभाग स्तरीय पत्रकार अधिमान्यता समिति के सदस्य रहे है साथ ही पत्रकारिता की सर्वोच्च डिग्री एमजे में देवी अहिल्या विश्वविद्यालय इंदौर से टाॅपर रहे है।

Post a comment

 
Top