राजगढ़। कोरोना रूपी दैत्य से युद्ध करने के लिए शरीर को अलग-अलग रख विचारों को एक करके सफलता पाई जा सकती है। समूचे विश्व को ये दुश्मन त्रास दे रहा है। उक्त बातें इस प्रतिनिधिं से चर्चा करते हुए नगर के पांच धाम एक मुकाम श्री माताजी मंदिर के ज्योतिषाचार्य श्री पुरुषोत्तमजी भारद्वाज ने कही। श्री भारद्वाज ने यह भी कहा कि शारिरिक समूह से इसको जीता नही जा सकता हैं, वैचारिक समूह से इसको परास्त किया जा सकता हैं। आज समय की मांग है हम विचारों के द्वारा संगठित हो जाए और विश्व कल्याण हेतु शासन-प्रशासन स्वास्थ्य विभाग अन्य सहयोगी संस्थाएं जो इस कोरोना रूपी दैत्य से लड़ने के लिए प्रथम पंक्ति में खड़े हैं उनका हम सहयोग करे और उनका सहयोग हम घर बैठकर ही कर सकते हैं। इस दैत्य से लड़ने के लिए हमे घर में ही बैठना है। सभी से प्रार्थना है, अपील है कि शरीर का संचलन रद्ध करे और विचारों को संचालित करें। इस समय घर में समय व्यतीत करना ही सर्वोच्च धर्म है।
श्री भारद्वाज ने यह भी बताया कि दिनांक 13 अप्रैल से सूर्य मेष राशी में आ रहा रहे हैं। संभावना है कि मेषार्क सूर्य प्रकृति को स्वस्थ्य करेंगे। लेकिन उसके पहले भी ये सम्भव है। सभी मन से जुड़े तन से नही।

Post a comment

 
Top