नई दिल्ली। दिल्ली में आम आदमी पार्टी की भारी जीत के बाद अब आम आदमी पार्टी नेता अरविंद केजरीवाल को पार्टी के विधायक दल का नेता चुन लिया गया है। मनीष सिसोदिया ने यह घोषणा की है। अरविंद केजरीवाल अब कभी भी लेफ्टिनेंट गवर्नर अनिल बैजल के पास जाकर सरकार बनाने का दावा पेश कर सकते हैं। दिल्ली विधानसभा चुनाव में अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी को 70 में से 62 सीटों पर जीत मिली है जबकि 8 सीटों पर भारतीय जनता पार्टी की जीत हुई है और कांग्रेस इस बार भी अपना खाता नहीं खोल पायी है।  अरविंद केजरीवाल को विधायक दल का नेता घोषित किए जाने के साथ मनीष सिसोदिया ने यह भी कहा है कि 16 फरवरी के दिन दिल्ली की नई सरकार का शपथग्रहण होगा। पहले ऐसा माना जा रहा था कि अरविंद केजरीवाल 14 फरवरी को शपथ ले सकते हैं क्योंकि पिछली बार भी उन्होंने 14 फरवरी को ही शपथ ली थी और पहली  बार जब मुख्यमंत्री पद छोड़ा था तो उस दिन भी 14 फरवरी ही थी। लेकिन मनीष सिसोदिया ने साफ कर दिया है कि 16 फरवरी के दिन नई सरकार का शपथग्रहण होगा और यह शपथग्रहण दिल्ली के रामलीला मैदान में होगा।
मनीष सिसोदिया ने यह भी बताया कि 16 फरवरी के दिन ही पूरी सरकार का शपथग्रहण समारोह होगा, यानि केजरीवाल सरकार का पूरा मंत्रीमंडल शपथ लेगा। ऐसी संभावना है कि इस बार केजरीवाल सरकार के मंत्रीमंडल में कुछ नए चेहरे शामिल हो सकते हैं। पार्टी के कई कदावर नेता इस बार विधायक बने हैं और ऐसी संभावना है कि उनको मंत्रीमंडल में शामिल किया जा  सकता है।
अरविंद केजरीवाल लगातार तीसरी बार दिल्ली के मुख्यमंत्री बनने जा रहे हैं, पहली बार वे 2013 में दिल्ली के मुख्यमंत्री बने थे लेकिन कुछ दिनों में ही उन्होंने अपना पद छोड़ दिया था, इसके बाद वे फिर से 2015 में मुख्यमंत्री बने और इस बार फिर उनकी पार्टी की जीत हुई है और तीसरी बार मुख्यमंत्री बनने जा रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक बुधवार सुबह अरविंद केजरीवाल ने सिविल लाइंस स्थित अपने आवास पर विधायकों के साथ बैठक की है और उस बैठक में ही उन्हें विधायक दल का नेता चुन लिया गया है। 

Post a comment

 
Top