नई दिल्ली। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच आज मंगलवार (25 फरवरी) को होने वाली बातचीत बेहद अहम है। भारतीय और अमेरिकी अधिकारियों के मुताबिक, बातचीत में दोनों नेताओं द्वारा विभिन्न द्विपक्षीय और क्षेत्रीय मुद्दों पर ध्यान केंद्रित किए जाने की उम्मीद है। इनमें व्यापार और निवेश, रक्षा एवं प्रतिरक्षा, धार्मिक स्वतंत्रता, अफगानिस्तान में तालिबान के साथ प्रस्तावित शांति समझौता तथा हिंद प्रशांत क्षेत्र में स्थिति, शामिल होने की उम्मीद है। दोनों नेता एशिया प्रशांत क्षेत्र और इससे इतर भूराजनीतिक घटनाक्रमों पर चर्चा करेंगे। तीन अरब डॉलर के अत्याधुनिक सैन्य हेलीकाप्टर और अन्य उपकरणों के लिए मंगलवार को समझौते किए जाएंगे। दुनिया के तमाम देशों की निगाहें इस समय भारत और अमेरिका के संबंधों पर बनी हुई हैं। खासकर ट्रंप का ये दौरा तब और महत्वपूर्ण हो जाता है जब दुनिया में चीन के कोरोना वायरस को लेकर वैश्विक मंदी बनी हुई है और साल की शुरुआत में ही अमेरिका और ईरान के बीच तनातनी हुई थी।

ड्रोन, मिसाइल समेत कई हथियार देगा अमेरिका -
भारत-अमेरिका के बीच मेगा डिफेंस डील होगी। अमेरिका भारत को इस प्लैनेट का सबसे खतरनाक मिलिट्री इक्विपमेंट्स देगा। 3 अरब डॉलर की डिफेंस डील के तहत अमेरिका भारत को 24 MH-60R हेलिकॉप्टर देगा, जिसका इंडियन नेवी  इस्तेमाल करेगी। इसके अलावा भारत इंडियन आर्मी के लिए 6 AH-64E अपाचे हेलिकॉप्टर भी खरीदेगा। साथ ही इंडियन नेवी के लिए मल्टी मिशन एयरक्रॉफ्ट को लेकर भी बातचीत संभव है। इस डील के तहत अमेरिका भारत को स्टेट ऑफ आर्ट मिलिट्री हेलिकॉप्टर की बिक्री करेगा। इसके अलावा भारत को अमेरिकी ड्रोन, मिसाइल सिस्टम समेत अन्य सैन्य उपकरण की भी आपूर्ति की जाएगी। भारत दौरे के पहले दिन गुजरात के मोटेरा स्टेडियम में डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि मैं भारत को सबसे बेहतरीन सैन्य उपकरण उपलब्ध कराना चाहता हूं। मोटेरा स्टेडियम में ट्रंप ने पाकिस्तान को कड़ी चेतावनी देते हुए कहा कि आतंकवाद को लेकर भारत-अमेरिका साथ-साथ हैं और किसी भी कीमत पर आतंकवाद फैलाने वालों को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

एतिहासिक रक्षा सौदे से बढ़ेंगी पाकिस्तान की धड़कनें -
24 MH-60 रोमियो हेलिकॉप्टर वाली डील 2.6 अरब डॉलर की होगी, जबकि 6 अपाचे हेलिकॉप्टर वाली डील 800 मिलियन डॉलर की होगी। अपाचे हेलिकॉप्टर की डील बोइंग के साथ होगी। सुरक्षा को लेकर कैबिनेट कमिटी पहले ही इसपर मुहर लगा चुकी है। इस डील अलावा इंडियन नेवी के लिए 8 Poseidon P8I मल्टी मिशन एयरक्रॉफ्ट को लेकर भी बातचीत हो सकती है। साथ ही दिल्ली को अभेद बनाने के लिए स्पेक्ट्रम मिसाइल शील्ड को लेकर भी बात संभव है। बताया जा रहा है कि भारत-अमेरिका के बीच हो रहा ये रक्षा सौदा एशिया महाद्वीप का अबतक का सबसे अहम और ऐतिहासिक होगा। राक्षा विशेषज्ञों का कहना है कि इस रक्षा समझौते के बाद पाकिस्तान की धड़कने निश्चित तौर पर बढ़ जाएंगी।

आज 'यूएस-इंडिया टैक्स फोरम' होगा लॉन्च -
उद्योग एवं सरकारी एजेंसियों के लिए कर संबंधी नीतियों के निर्धारण की राह सुगम बनाने के लिए अमेरिका और भारत के बीच द्विपक्षीय सहयोग से एक पहल की शुरुआत की जा रही है जिसके तहत मंगलवार को अमेरिका-भारत रणनीतिक साझेदारी मंच (यूएसआईएसपीएफ) द्वारा 'यूएस-इंडिया टैक्स फोरम' का शुभारंभ किया जाएगा। इस फोरम में फॉर्च्यून 500 कंपनियों के 50 से अधिक कर विशेषज्ञ और वित्त मंत्रालय, केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी), जीएसटी परिषद और केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर एवं सीमाशुल्क (सीबीआईसी) के अधिकारी शामिल होंगे। यूएसआईएसपीएफ की ओर से जारी एक बयान में यह जानकारी दी गई। बयान के अनुसार, कर नीति पारदर्शिता और सक्षमता के संबंध में फीडबैक साझा करने के लिए सरकार के साथ फोरम की बैठक नियमित आधार पर होगी। बहुपक्षीय एवं एक पक्षीय कर संधियों के बीच कर नीति संबंधी सदभाव सुनिश्चित करने के लिए भी यह फोरम सरकार के साथ मिलकर काम करेगा।

Post a comment

 
Top