राजगढ़। धार जिले के अति प्राचिन जैन तीर्थ श्री भोपावर महातीर्थ के बारे में सहयोगियों से सुना जरूर है लेकिन वहां आने का अवसर नहीं मिल पाया है। चूंकि यह जन-जन की आस्था का केंद्र हैं और भव्य स्तर पर प्रतिष्ठा महोत्सव होने जा रहा है तो मैं निष्चित रूप से इस प्रतिष्ठित कार्यक्रम का हिस्सा बनने 26 फरवरी को आउंगा। आपके द्वारा दिया गया आमंत्रण मैं स्वीकार करता हूं। यह बात भोपाल स्थित सीएम हाउस में गुरुवार को मुख्यमंत्री कमलनाथ ने क्षेत्रीय विधायक प्रताप ग्रेवाल के नेतृत्व में पहुंचे भोपावर ट्रस्ट मंडल के पदाधिकारियों सहित राजगढ़ सकल श्रीसंघ के सदस्यों को कही। दरअसल, यह प्रतिनिधि मंडल सीएम कमलनाथ को इस भव्य प्रतिष्ठा महोत्सव में आमंत्रित करने भोपाल पहुंचा था। प्रतिनिधि मंडल के वीरेंद्र जैन पत्रकार ने बताया कि 7 दिवसीय प्रतिष्ठा महोत्सव में आने के लिए प्रदेष के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने 26 फरवरी की स्वीकृति दे दी है। श्री जैन ने बताया कि मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि ऐसे आयोजन में सहभागिता करने का मौका मिलना मेरे लिए सौभाग्य की बात है और इस अवसर पर आवष्यक रूप से मैं उपस्थित रहूंगा।


जैन-अजैन सभी के लिए है भोपावर तीर्थ आस्था का केंद्र -
राजगढ़ सकल जैन श्रीसंघ के वीरेंद्र जैन पत्रकार ने भोपावर तीर्थ के संबंध में विस्तृत रूप से जानकारी देते हुए तीर्थ पर विराजित 87 हजार वर्ष प्राचिन भगवान श्री शांतिनाथ की प्रतिष्ठा के संपूर्ण कार्यक्रम से अवगत कराया। उन्होंने सीएम को बताया कि क्षेत्र ही नहीं बल्कि मालवा-निमाड़ अचंल सहित संपूर्ण प्रदेष और यहां तक कि देष के अधिकांष जैन-अजैन के लिए भोपावर तीर्थ आस्था का एक विषेष केंद्र हैं। यहां पहंुचकर दर्षन-वंदन करने मात्र से कई इच्छाएं पूर्ण हो जाती हैं।
पत्र भेंट कर किया सीएम को आमंत्रित -
इस अवसर पर श्री ऋषभदेव मोतीलाल ट्रस्ट सचिव राजेश कामदार ने श्री शांतिनाथ जैन श्वेतंबार ट्रस्ट भोपावर के अध्यक्ष रमण भाई मूथा द्वारा प्रेषित आमंत्रण पत्र भी मुख्यमंत्री कमलनाथ को भेंट किया। इसके साथ ही श्रीसंघ ने मौखिक तौर पर भी सीएम से महोत्सव में सहभागी बनने का अनुरोध किया।

विधायक ने भी बताया भोपावर तीर्थ का महत्व -
इस अवसर पर विधायक ग्रेवाल ने सीएम को अवगत कराया कि भोपावर तीर्थ के प्रति क्षेत्र के जैन एवं अजैन संवर्गों में अत्याधिक महत्व हैं। एवं इस तीर्थ पर सभी समाज के अनुयायी श्रद्धापूर्वक आकर दर्षन वंदन करते है। इस दौरान श्री ऋषभदेव मोतीलाल ट्रस्ट कोषाध्यक्ष सुनील संघवी एवं ट्रस्टी संदीप जैन नाकोड़ा भी उपस्थित रहे।

यह कहा मुख्यमंत्री कमलनाथ ने -
मैं इस भव्य आयोजन में शामिल होकर स्वयं को गौरवान्वित महसूस करूंगा। 26 फरवरी को मैं भोपावर जरूर आउंगा। भोपावर तीर्थ के बारे में सुना हमने भी था लेकिन कभी वहां पहुंचने का सौभाग्य नहीं मिला। आपके इस आमंत्रण को मैं सहर्ष स्वीकारते हुए 26 फरवरी को जरूर आउंगा।

Post a comment

 
Top