भोपाल - इंदौर। मध्य प्रदेश लोकसेवा आयोग ने उप परीक्षा नियंत्रक डॉ. सुशांत पुणेकर को हटा दिया। राज्यसेवा प्रारंभिक परीक्षा में प्रश्न पर खड़े हुए विवाद के बाद पीएससी में हुआ यह पहला बदलाव है। अधिकारी को हटाने के तरीके पर सवाल भी खड़े हो रहे हैं। हटाए गए अधिकारी की पदस्थापना सेट यानी राज्य पात्रता परीक्षा प्रकोष्ठ में थी, लेकिन राज्यसेवा मामले के विवाद के बाद उन्हें हटाया गया। इससे पीएससी नियम विरुद्ध अधिकारी से काम लेने के मामले में भी संदेह के घेरे में है। पीएससी ने तीन दिन पहले बिना कोई शोर के डॉ. पुणेकर को कार्यमुक्त करने का आदेश जारी किया। इसमें कहा गया कि परीक्षा होने के बाद उनके लिए कोई कार्य नहीं बचा, लिहाजा उन्हें रिलीव किया जाता है। डॉ. पुणेकर को मूल विभाग भेज तो दिया गया, लेकिन उच्च शिक्षा विभाग ने भी फिलहाल उन्हें कहीं नियुक्ति नहीं दी है। मामले में डॉ. पुणेकर का कहना है कि विभाग से नई पदस्थापना के आदेश का इंतजार कर रहा हूं। पीएससी से कार्यमुक्त करने का निर्णय आयोग का था, मेरे लायक काम नहीं होने से मेरी सेवाएं फिर से मूल विभाग को सौंपी गई हैं।

Post a comment

 
Top