भोपाल। मुख्यमंत्री कमलनाथ विदेश प्रवास से लौटने के बाद बजट की तैयारियों में जुटेंगे। वे वित्त मंत्री तरुण भनोत, मुख्य सचिव सुधिरंजन मोहंती, अपर मुख्य सचिव अनुराग जैन सहित वित्त विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक करेंगे। यह बैठक 29 जनवरी को मंत्रालय में रखी गई है। इसमें अधिकारियों को दस्तावेज सहित पूरी तैयारी के साथ आने के निर्देश मुख्यमंत्री कार्यालय ने दिए हैं। सूत्रों के मुताबिक विजन टू डिलीवरी रोडमैप 2025 के आधार पर बजट में विभागों के लिए प्रावधान किए जाएंगे। हर विभाग कुछ नए काम हाथ में लेगा और इसके लिए समयबद्ध कार्ययोजना भी तैयार करेगा। मुख्यमंत्री कमलनाथ का जोर प्रोजेक्ट मोड में काम करवाने का है। तय समयसीमा के हिसाब से ही बजट का आवंटन भी होगा। बजट में रोडमैप के हिसाब से प्राथमिकताएं रखी जाएंगी और उसी के अनुरूप बजट तैयार होगा। बताया जा रहा है कि कर्जमाफी योजना का सरकार 2020-21 में पूरा करने का लक्ष्य हाथ में लेगी। यही वजह है कि अप्रैल से कर्जमाफी का तीसरा चरण शुरू करने की तैयारी कृषि और सहकारिता विभाग कर रहा है। नगरीय निकाय और पंचायत चुनावों के लिए बजट का प्रावधान भी रखा जाएगा। कर्मचारियों के लिए महंगाई भत्ते और पेंशनर्स के लिए महंगाई राहत, मेट्रो परियोजना और मेडिकल कॉलेजों के निर्माण के लिए भी बजट का इंतजाम रखने की योजना है। मुख्यमंत्री कार्यालय के अधिकारियों का कहना है कि बैठक में सिर्फ चुनिंदा अधिकारी ही मौजूद रहेंगे। इसके बाद वित्तमंत्री जरूरत के मुताबिक विभागीय मंत्रियों के साथ भी बैठकें करेंगे। अपर मुख्य सचिव वित्त अनुराग जैन की टीम विभागीय अधिकारियों के साथ लगातार बैठकें करके प्रस्तावों को अंतिम रूप देने का काम कर रही है। 

Post a comment

 
Top