दसाई। कर्मठ व्यक्ति की हर कहीे पूछ परख होती है। हमें अपने कार्य के प्रति जवाबदेह होकर कर्म करना चाहिये। आपके कार्य और व्यवहार से ही समाज में आपको स्थान मिलता है। उक्त विचार स्थानीय शासकीय कन्या उमावि मे आयोजित विदाई एवं सम्मान समारोह के अवसर पर कन्या मावि के शिक्षक मोहनलाल पाटीदार ने अपने संबोधन मे कहे। साथ ही समस्त शिक्षकों एवं छात्राओं से कर्म आर्धारित जीवन शैली अपनाने का आग्रह करते हुवे निरंतर जीवन पथ पर आगे बढने का संदेश दिया।  कार्यक्रम का आयोजन पाटीदार की 35 वर्ष के सेवा के बाद सेवा निवृति उपरांत सम्मान समारोह का आयोजन विद्यालय की छात्राओं ने किया था। सर्वप्रथम मां सरस्वती के चित्र पर अतिथियों द्वारा माल्यापर्ण कर शुभारंभ किया गया। बाद में मोहलाल पाटीदार का साल, श्रीफल देकर तथा साफा बंधवाकर स्वागत किया गया। वही प्रशस्ति पत्र भी भेंट किया जिसमे आपके कार्यकाल की उपलब्धियों का बखान किया गया। प्रशस्ति पत्र का वाचन प्रधानाध्यापक कैलाश मारू ने किया। विद्यालय परिवार की और से प्राचार्य ने तथा विद्यालय की छात्राओं ने भी सम्मान मे स्मृति चिन्ह भेंट किये। कार्यक्रम की अध्यक्ष प्राचार्य प्रतिभा दूबे एवं मुख्य अतिथि प्रधानाध्यापक कैेलाश चन्द्र मारू ने भी सेवा निवृति पर सम्मानित शिक्षक के कार्यो की प्रशंसा की। मंच पर संकूल प्राचार्य बीएल पाटील, एचएन पाटील एवं गोविन्द झाला उपस्थित थे। कार्यक्रम में सत्यनारायण धाकड,  मुकेश पाटीदार, राजीव बधेल, मुकेश पाटीदार, आत्माराम पाटील, मनोज डोड, सहित अनेक शिक्षकों ने पाटीदार की कार्यशैली की प्रशंसा करते हुवे उनके कार्यकाल में हुवे संस्मरणों को याद किया। कार्यक्रम का संचालन गणेश भाटी ने किया। इस अवसर पर मोहनलाल सौलंकी, निशा प्रजापति, मंजूबाला मारू, दिव्या पाटीदार सहीत समस्त शिक्षक एवं विद्यालय की 400 से अधिक छात्रायें उपस्थित थी।

Post a comment

 
Top