राजोद। पत्रकार जीतू सोनी एवं मीडिया संस्थान सांध्य दैनिक अखबार संझा लोकस्वामी पर प्रशासन द्वारा  द्वेषतायुक्त  कार्यवाही करते हुए प्रकरण दर्ज करने पर राजोद क्षेत्र के पत्रकार आहात व स्तब्ध है तथा लोकस्वमी संस्थान व जीतू भाई सोनी व परिवार पर की गई कार्रवाई को सरकार की खिसियानपत बताते हुए राजोद क्षेत्र के पत्रकारों ने पुलिस थाना राजोद पर इकट्ठा हो कर, राज्यपाल के नाम थाना प्रभारी को एक ज्ञापन सौंपा है। ज्ञापन में बताया की  सांध्य दैनिक अखबार संझा लोकस्वामी अपनी सच्चाई को बेबाक तरीके से  लिखने के लिए जाना जाता है।  इसी हिम्मत के चलते पिछले कई दिनों से लोकस्वामी अखबार हनीट्रैप मामले को जनता के सामने लाकर सफेदपोशों, दुष्चरित्रों  के काले कारनामे  उजागर कर रहा था। इसी मामले के तार कई नामी-गिरामी काली अंधेरी रात में उजले वस्त्र पहनकर जाने वाले जनप्रतिनिधियों, भ्रष्ट आचरण में लिप्त प्रशासनिक कर्ताधर्ताओ से जुड़े हुए थे। संझा लोकस्वामी के मुखिया पत्रकार जीतू सोनी  एवं उनके पुत्र अमित सोनी अपनी कलम के माध्यम से दिनोंदिन खुलासे करते आ रहे हैं। प्रेस की स्वतंत्रता पर 1 दिसंबर की पूर्व रात्रि में संध्या लोकस्वामी प्रेस तथा निजी संस्थानों पर पुलिस प्रशासन द्वारा  छापामार कार्यवाही कर  प्रेस के मुखिया जीतू सोनी व उनके पुत्र अमित भाई सोनी के साथ अभद्र व्यवहार कर झूठे मुकदमे बनाकर  प्रकरण दर्ज किए गए हैं। जो कि सरासर असत्य हैं इस घटना की राजोद क्षेत्र के समस्त पत्रकार एक स्वर में  निंदा करते हैं तथा संझा लोकस्वामी प्रेस पर लगे ताले शीघ्र ही  खुलवाने तथा  लादे गए मुकदमों को तुरंत वापस लेने की मांग की है। ज्ञापन का वाचन सागर सोलंकी ने किया। इस दौरान वरिष्ठ पत्रकार नंदराम नायमा, रमेश रजक, आजाद अग्निहोत्री, पवन वीर, अशोक नायमा, शंकर मदारिया, गोवर्धन पोपण्डिया, प्रहलाद सिंह सिसोदिया, रामचंद्र डामर, द्विवेदी संदला, श्रीराम मारु लाबरिया, दिनेश शर्मा, लोकेंद्र सोलंकी, सुनील तूकारिया आदि पत्रकारों के साथ सेवानिवृत्त शिक्षक रमेश चंद्र अग्निहोत्री ओर ओम प्रकाश गोयल तथा  सुरेंद्र सिंह राजावत आदि मौजूद रहे।

Post a comment

 
Top