नई दिल्ली। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने 1984 के सिख विरोधी दंगे को लेकर बहुत बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि अगर उस समय के गृहमंत्री नरसिम्हा राव ने इंद्र कुमार गुजराल की सलाह मान ली होती तो 1984 के सिख दंगे को टाला जा सकता था। मनमोहन सिंह ने कहा कि गुजराल ने नरसिम्हा राव को दिल्ली के हालात देखकर सेना की तैनाती की सलाह दी थी। दिल्ली में पूर्व पीएम इंद्र कुमार गुजराल की 100वीं जयंती पर आयोजित कार्यक्रम में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने ये बात कही। मनमोहन सिंह ने कहा, “इंद्र कुमार गुजराल सिख दंगे से पहले के माहौल को लेकर बेहद चिंतित थे और रात में तत्कालीन गृहमंत्री नरसिम्हा राव के पास गए थे। गुजराल ने नरसिम्हा राव को सलाह दी थी कि हालात बेहद गंभीर हैं लिहाजा सरकार को जल्द से जल्द सेना को बुलाना चाहिए और तैनात करना चाहिए। अगर गुजराल की सलाह को नरसिम्हा राव ने मान लिया होता, तो 1984 का सिख नरसंहार टल सकता था।“ गौरतलब है कि 1984 में सिख सुरक्षाकर्मियों के हाथों तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के बाद देशभर में सिख विरोधी दंगे भड़क उठे थे, जिनमें करीब 3,000 सिखों की जान चली गई। दिल्ली में दंगों का असर सबसे ज्यादा था। कहा जाता है कि 3000 में से 2700 सिखों की हत्या दिल्ली में ही हुई थी। स्वतंत्र स्रोतों से अनुमान है कि मौतों की संख्या लगभग 8,000-17,000 है।

Post a comment

 
Top