भोपाल। मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने कहा है कि अब हमारा लक्ष्य है कि देश में मध्यप्रदेश की एक अलग पहचान बने। उन्होंने कहा कि भविष्य की जरूरतों और आबादी के दबाव को कम करने के लिए भोपाल सहित प्रदेश के सभी शहरों का मास्टर प्लान बनाया जाएगा। उन्होंने कहा कि भोपाल के इतिहास का विधिवत लेखन भी किया जाएगा। श्री कमल नाथ भोपाल के बड़ा तालाब स्थित जीवन वाटिका उद्यान में म्यूजिकल वॉटर फाउंटेन का उद्घाटन कर रहे थे। भोपाल जिले के प्रभारी सहकारिता मंत्री डॉ. गोविंद सिंह तथा नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्री जयवर्द्धन सिंह इस अवसर पर उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने कहा कि हर शहर की अपनी संस्कृति और इतिहास है। आने वाली पीढ़ी को इससे अवगत कराने के लिए प्रयास करना होंगे, जिससे वे अपने शहर की विशिष्ट परंपराओं और सभ्यता को जान सके। उन्होंने कहा कि बढ़ते हुए शहरीकरण से उत्पन्न समस्याओं पर गंभीरता से सोचना होगा और इसके समाधान के उपाय तलाशने होंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि शहरों के विस्तार और उन्हें व्यवस्थित बनाने में आम जनता से भी जुड़ें क्योंकि बगैर जनता के सहयोग के यह संभव नहीं होगा। मुख्यमंत्री ने भोपाल की शान बड़े तालाब में म्यूजिकल वॉटर फाउंटेन की शुरूआत होने पर महापौर श्री आलोक शर्मा एवं नगर निगम को बधाई देते हुए कहा कि हम प्रदेश के प्रमुख मंदिरों और एतिहासिक धरोहरों में लेजर शो के माध्यम से उसके इतिहास और संस्कृति को आम लोगों, विशेषकर पर्यटकों के सामने प्रस्तुत करने की योजना बना रहे हैं। मुख्यमंत्री ने बताया कि उन्होंने केन्द्रीय पर्यावरण मंत्री के रूप में भोपाल तालाब के गहरीकरण, सौंदर्यीकरण और वी.आई.पी. रोड बनाने के लिए योजना मंजूर कर राशि उपलब्ध करवाई थी। उन्होंने कहा कि यह मेरी जवाबदारी थी कि भोपाल का यह ताल सदैव सुरक्षित और सुंदर रहे। जनसम्पर्क मंत्री श्री पी.सी. शर्मा ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने प्रदेश के हर शहर का सौंदर्य निखारने के प्रयास प्रारंभ किए है। आज हमारा भोपाल वायु सेवा के माध्यम से देश के प्रमुख शहरों से जुड़ा है। इसका श्रेय श्री कमल नाथ को जाता है। श्री शर्मा ने कहा कि बेहतर स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध करवाने के लिए संजीवनी क्लीनिक का शुभारंभ कर मुख्यमंत्री ने ऐतिहासिक काम किया है। बेहतर स्वास्थ्य के साथ सुंदर शहर बनाने के लिए भी उनके निरंतर प्रयास जारी है। महापौर श्री आलोक शर्मा ने भोपाल के इतिहास को नए सिरे से लिखने की आवश्यकता बतलाई। उन्होंने कहा कि भोपाल का एक हजार पुराना गौरवशाली इतिहास है। यहाँ की गंगा-जमुनी तहजीब हमारे आपसी सद्भाव की मिसाल है। मुख्यमंत्री ने म्यूजिकल वॉटर फाउंटेन का विधिवत शुभारंभ किया। शास्त्रीय संगीत और गायन के साथ भोपाल ताल की पानी की बूंदों से मनोहारी छटाएँ प्रस्तुत की गईं। पानी की बूंदों के जरिए राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के 150वें वर्ष में उनके जीवन वृत्त को आकर्षक ढंग से प्रस्तुत किया गया। इस अवसर पर भोपाल नगर निगम परिषद के अध्यक्ष श्री सुरजीत सिंह चौहान, नगर निगम के नेता प्रतिपक्ष श्री मो. सगीर, पार्षद, एम.आई.सी. के सदस्य तथा बड़ी संख्या में नागरिक उपस्थित थे। कार्यक्रम में स्थानीय पार्षद श्रीमती शाबिस्ता ज़की ने आभार व्यक्त किया।

Post a comment

 
Top