झाबुआ। राष्ट्रीय मानवाधिकार एवं महिला बाल विकास आयोग के राष्ट्रीय अध्यक्ष दयाराम मिश्रा एवं राष्ट्रीय मुख्य महासचिव डॉ रविंद्र मिश्रा के निर्देशानुसार प्रतिनिधि प्रदेश अध्यक्ष मनीष कुमट, संभागीय सचिव गोपाल विश्वकर्मा, गोपाल  सोनी, संजय व्यास, डॉ रमेश सोलंकी, शुभम कोटड़िया, जमनालाल चौधरी ने बोरघाटा स्थित शासकीय प्राथमिक विद्यालय पहुंचकर स्कूली छात्र छात्राओं के साथ विधिवत रूप से 10 दिसंबर, मंगलवार को अंर्तराष्ट्रीय मानवाधिकार दिवस मनाया। आयोजन का श्री गणेश सर्वप्रथम मां शारदा की तस्वीर पर धूप-दीप प्रज्जवलित कर किया गया। आयोजन में प्रतिनिधि प्रदेश अध्यक्ष मनीष कुमट ने अपने उद्बोधन में स्कूली छात्र-छात्राओं सेे कहा कि आप अपने जीवन में किसी भी प्रकार का कोई शराब, मदिरा आदि का व्यसन ना करे। व्यसन करने से अपना शरीर, पैसा एवं परिवार नष्ट होता ही है। साथ ही अपनी इज्जत भी गिरती है। संजय व्यास ने अपने उद्बोधन में कहा कि आप सभी बच्चे प्रतिदिन समय पर स्कूल आए। स्कूलों में अपने गुरु द्वारा दिए गए उच्च संस्कारों को अपने जीवन में उतारे, जिससे आगे चलकर आप अपने जीवन में निरंतर आगे बढेंगे। डॉ रमेश सोलंकी ने स्कूली छात्र-छात्राओं को कहा कि आप प्रतिदिन सुबह उठकर मंजन करे। जिसके बाद अपने माता-पिता के चरण स्पर्श कर अपनी दिनचर्या की शुरुआत करें। अपने शरीर को स्वस्थ रखने के लिए प्रतिदिन स्नान करें।

स्टेशनरी सामग्री एवं स्वलपाहार का किया वितरण -
तत्पश्चात समस्त उपस्थित छात्र-छात्राओं को अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार दिवस के उपलक्ष में लक्ष्मण चौधरी के विशेष सहयोग से टीम द्वारा ठंड से बचने के लिए टोपी, कॉपी-पेन, बिस्कीट वितरित किए गए। जिस पर बच्चों में खुशी जाहिर की। गोपाल विश्वकर्मा ने समस्त बच्चों से कहा कि आप हमारे द्वारा दिए गए टोपे रोजाना पहने, जिससे आपको ठंड से बचाव होगा। इस अवसर पर स्कूल के अध्यापक मांगीलाल सिंगार अध्यापिका श्रीमति मंजूला चौधरी उपस्थित थे। साथ ही स्कूल स्टाॅफ को स्कूल संस्था में लगाने हेतु संगठन की ओर से गिफ्ट भेंट किया गया।

Post a comment

 
Top