दसाई। धार्मिक शिविर के माध्यम से धर्म के बारे मे जानकरी मिलती रहती हैं और धर्म करने का अवसर भी प्राप्त होता हैं। धर्म क्या हैं यह हमे काफी आगे बढाता हैं हमे तो सिर्फ समय निकाल कर भगवान की आराधना कर अपने जीवन को धन्य बनाना है। धार्मिक शिविर का उपयोग हर किसी को करना चाहिये। जीवन मे जब तक प्राण है तब तक धर्म करना चाहिये, ताकि हमारा इस धन्यधरा पर आना सार्थक हो सके। उक्त विचार शनिवार  को राजेन्द्रसूरि ज्ञान मन्दिर में  दो दिवसीय आध्यात्म यात्रा शिविर के शुभारम्भ अवसर पर सूरत निवासी मोक्ष भंसाली ने कहें । कार्यक्रम के मुख्य अतिथि श्रीसंघ अध्यक्ष संजय पिपाडा, विशेष अतिथि राजेन्द्र नवयुवक परिषद् अध्यक्ष मनीष पावेचा, छोटेलाल नाहर थे। कार्यक्रम के प्रारम्भ मे अतिथियो द्वारा दादा गुरुदेव के चित्र पर माल्यार्पण कर किया गया। स्वगत गीत मुस्कार पावेचा ने प्रस्तुत किया। स्वागत भाषण कमल जैन ने दिया। कार्यक्रम का संचालन राकेष नाहर ने किया।

कल होगा समापन - 
शिविर के दौरान भव्यसेठ ने धार्मिक पाठशाला के बच्चो को कई प्रकार की धर्म के बारे मे जानकरी दी वही सुन्दर स्थवन भी प्रस्तुत किये साथ ही धार्मिक प्रार्थना भी केसे होना चाहिये इसके बारे मे विस्तार से बताया। एंजल शाह ने जिनालय मे प्रभु के दर्शन केसे  करना चाहिये, रात्रि भोजन करने से क्या नुकसान होता हैं वही जीवन में जमींन कंद नही खाना चाहिये। हमें हमेशा ही बडो का सम्मान कर सभी के साथ एकता बना कर रखना चाहिये। एकता में काफी शक्ति होती है। दो दिवसीय शिविर मे सुनिल चण्डालिया, शैलेश सियाल, ललीत नाहर, महिला परिषद् अध्यक्ष पूजा पावेचा, रेखा राठोर, बालिका परिषद् अध्यक्ष याशिका मण्डलेचा, युक्ता मण्डलेचा, नेहा मण्डलेचा, परिधि पिपाडा, शिखा नाहर, संगीता पिपाडा,सहित बडी संख्या में समाजजन उपस्थित थे। रविवार को दो दिवसीय शिविर  के समापन अवसर पर परिषद् के राष्ट्रीय अध्यक्ष रमेश भाई धरु, राष्ट्रीय महामंत्री सुधीर लोढा, शिक्षा मंत्री भरतभाई वोरा, प्रांतीय अध्यक्ष राजेन्द्र दंगवाडा, प्रचार मंत्री ब्रजेश बोहरा, संगठन मंत्री राजेश वागरेचा, प्रांतीय महामंत्री चिराग भंसाली सहित कई राष्ट्रीय एंव प्रांतीय पदाधिकारी उपस्थित रहेगेा।

Post a comment

 
Top