सरदारपुर। स्थानीय उपजेल में एक दलित युवक की संदिग्ध परिस्थिति में मौत के बाद हंगामा मच गया। प्राप्त जानकारी के अनुसार अमझेरा थाने के दसई चौकी में 3 दिसंबर को पारिवारिक विवाद के चलते विभिन्न धाराओं के अंतर्गत महेंद्र उर्फ रितेश पिता अमृत सोलंकी उम्र 40 वर्ष को न्यायालय के माध्यम से पुलिस द्वारा सरदारपुर उप जेल में भेजा गया था। जहां अज्ञात कारणों से उसकी कल शनिवार शाम को संदिग्ध परिस्थितियों में मृत्यु होना बताया जा रहा है। जिसे सरदारपुर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र भेजा गया जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया था। घटना के बाद परिजन जब मौके पर पहुंचे तो उन्होंने युवक की पीठ पर जेल में मारपीट के निशान होने का आरोप लगाया व घटना के बाद दलित समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष मनोज परमार सहित बड़ी संख्या में संगठन से जुड़े लोग वहां पहुंच गए  एवं मृत युवक के साथ जेल में मारपीट का आरोप लगाते हुए जेलर पर प्रकरण दर्ज करने की मांग करने लगे। लगभग एक घण्टे से अधिक समय तक धरने पर बैठने के एसडीओपी एवं नायब तहसीलदार की समझाईश के बाद धरना समाप्त किया।
समाजजनों ने लगाए गम्भीर आरोप -
बंदी युवक की मृत्यु की जानकारी मिलते ही मृतक के परिजन मौके पर पहुँचे। जिनके साथ बलाई समाज राष्ट्रिय अध्यक्ष भी पहुँचे। सभी ने अस्पताल पहुंच मृतक के शरीर पर बने निशानों को लेकर डॉक्टर से संबंध में सवाल जवाब करने लगे। समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष मनोज परमार एवं युवक के परिजनों ने आरोप लगाते हुए कहाँ की दलित युवक की जेल में हत्या कर दी गई। उसकी पीठ पर मारपीट के निशान भी पाए गए हैं। सभी इस मांग के साथ थाना परिसर में धरने पर बैठ गए की जेल में युवक की हत्या कर दी गई हैं आरोपी अधिकारियो पर प्रकरण दर्ज किया जाए ताकि भविष्य में किसी के भी साथ ऐसी कोई घटना ना हों। इन आरोपो के साथ पुलिस थाना परिसर में धरने पर बैठे समाजजनों को नायब तहसीलदार प्रकाश परिहार एवं एसडीओपी ऐश्वर्य शास्त्री ने समझाईश दी। जिसके बाद समाजजनों ने घटना के विभिन्न पहलुओं पर जाँच करने हेतु एक आवेदन पत्र दिया एवं धरना समाप्त किया।
न्यायाधीश की मौजूदगी में हुआ पोस्टमार्टम -
मृत युवक के शव का आज सुबह सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर पोस्टमार्टम किया गया। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के डॉ. एमएल जैन ने बताया कि  कल शाम को केदी को मृत अवस्था में लाया गया था। आज माननीय न्यायाधीस महोदय की उपस्थित में मेरे एवं डॉ. नितिन जोशी द्वारा शव का पीएम किया गया। पीएम की वीडियोग्राफी की गई हैं एवं विसरा जाँच के लिए भेजा गया हैं। जिसकी रिपोर्ट आने के बाद ही मृत्यु का कारण स्पष्ट हो पाएगा। वही उप जेल सरदारपुर के सहायक जेल अधीक्षक प्रदीप डामोर ने बताया कि जेल में दाखिल होने के बाद
कल शाम 5 बजे जेल गार्ड ने सुचना दी की बंदी की तबियत ज्यादा खराब हो रही हैं। हम तुरन्त एम्बुलेंस के माध्यम से बंदी को हॉस्पिटल लेकर गए। जहाँ पर डॉक्टर ने चेकअप कर मृत घोषित किया।

Post a comment

 
Top