भोपाल। मध्यप्रदेश के 64वें स्थापना दिवस पर आयोजित तीन दिवसीय मध्यप्रदेश उत्सव के अंतिम दिन आज रविन्द्र भवन   सभागृह में  प्रदेश  के विभिन्न अंचलों के लोक कलाकरों ने स्थानीय संस्कृति की रोचक प्रस्तुति दी। विंध्य अंचल के स्थानीय लोक कलाकरों ने आकर्षण प्रस्तुति प्रदर्शित की। रीवा के श्री राजमणि तिवारी ने  कलाकार दल के सहयोग से दुल-दुल-घोड़ी नृत्य शैली की रोचक प्रस्तुति दी। द्वितीय प्रस्तुति में नाचा लोक-नाट्य के अन्तर्गत दुर्ग (छत्तीसगढ़) के श्री काशीराम साहू और कलाकार दल ने वहाँ की आंचलिक संस्कृति से परिचित करवाया। इस हास्य प्रसंग को दर्शकों ने बहुत पसंद किया। इसके बाद बनारस (उत्तरप्रदेश) और मुंबई  (महाराष्ट्र) के कलाकारों ने गायन और वादन की प्रस्तुतियाँ दी। कार्यक्रम में प्रमुख सचिव संस्कृति श्री पंकज राग ने कलाकारों का पुष्पगुच्छों से स्वागत किया।

Post a comment

 
Top