दसाई। रविवार को परम पूज्य सम्राट राष्ट्रसंत संघ एकता के प्रेकर परिषद् प्रेरणा पुंज युग प्रभावक आचार्य श्रीमद् विजय जयंतसेन सुरीश्वर म.सा का 84 वां जन्मदिवस नगर मे धूमधाम के साथ मनाया गया। प्रातः6.30 बजे राजेनद्रसूरि ज्ञान मन्दिर में भक्ताभर एंव गुनानुवाद पाठ किया गया। जिसमे लक्की ड्रा के माध्यम से प्रथम पुरस्कार श्रीमती सुशीला पिपाडा, द्वितीय पुरस्कार जतनबेन नाहर तृतीय पुरस्कार कमल राठौर  को दिया गया।7.30 बजे स्नात्र पूजा पाठशाला के बच्चों द्वारा पढाई  गई। साथ ही समाजजनो द्वारा गगांजलिया और कुम्हारपाट पर  पक्षियों को दाना डाला गया। 9.30 आदिनाथ जिनालय से भव्य वरघोडा नगर के प्रमुख मार्गो से निकाला  गया ।रास्तेभर मे युवा वर्ग के साथ-साथ महिलाओ ने गरबा नृत्य किया वही समाजजनो द्वारा अक्षत की गवली की। समापन अवसर पर ज्ञान मन्दिर मे गुणानुवाद सभा का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के प्रारम्भ मे श्रीसघं अध्यक्ष संजय पिपाडा द्वारा दीप प्रज्जवल कर किया। स्वागत भाषण मनीष पावेचा ने दिया। स्वागत गीत युक्ता मण्डलेचा ने प्रस्तुत किया। बाबूलाल मण्डलेचा, विशाल जैन(लाबरिया), पारसमल पावेचा, अनिता पावेचा, पूजा पावेचा, रानी खाबिया, सुभाष मण्डलेचा, सहित अनेक समाजजनो ने अपने विचार रखे। दोपहर मे महिला परिषद् द्वारा जयंतसेन सुरीश्वर म.सा की अष्ट प्रकारी पूजा पढाई गई। शाम को छात्रावास मे बच्चों को मिठाइ का वितरण किया किया गया। 84 दीपक से पूज्य गुरुदेव की महाआरती का आयोजन किया गया। भगवान की मनमोहक अंगरचना की गई साथ ही समाजजनो का स्वामीवाल्यत्य किया गया।सुबह से देर रात तक कई धार्मिक कार्यक्रमो का आयोजन होने से पूरा माहौल धार्मिक हो गया। कार्यक्रम का संचालन राकेश नाहर ने किया। आभार कमल राठौर ने व्यक्त किया। कार्यक्रम के दौरान मन्दिर के पूजारी गोपाल चौहान एंव पाठशाला के बच्चो के साथ-साथ पाठशाला की शिक्षिका रेखा राठोर, नेहा मण्डलेचा का शॉल, श्रीफल के साथ बहुमान किया गया इस अवसर पर बच्चो द्वारा आचार्यश्री के जन्म पर आधारिक नाटक प्रस्तुत किया गया।

Post a comment

 
Top