सरदारपुर। एकिकृत बाल विकास परियोजना क्रमांक 1 द्वारा आज मांगलिक भवन में बेटी बचाओं - बेटी पढ़ाओं के तहत "बिटिया उत्सव" का आयोजन किया गया। आयोजन में शीतल महेश भाबर, पार्षद शांता ताहेड़ तथा परियोजना अधिकारी कांता निनामा मुख्य रूप से मौजुद रही। आयोजन में नवजात बालिकाओं का स्वागत लक्ष्मी के तहत स्वागत किया गया। इस दौरान 12 बालिकाओं की माताओं एवं उनकी बेटीयो का सम्मान किया गया। वही आयोजन में विभीन्न गतिविधियों में क्षेत्र की अव्वल व प्रथम आने वाले बालिकाओं का सम्मान किया गया। जिसमें फुटबाल, बेट मिंटन, शिक्षा आदी में अपना बेहतर प्रदर्शन करने वाली बालिकाओं को प्रमाण-पत्र भेंट कर सम्मानित किया गया। आयोजन में परियोजना अधिकारी कांता निनामा ने कहा की बेटियों का सम्मान करना उनके प्रती अपनी सकारात्म सोच का प्रतिक है। बेटीयों के साथ किसी भी तरह का भेदभाव नही होना चाहिए। हम हर गांव में बेटी बचाओं हेतु प्रचार-प्रसार अधिक से अधिक करे। जिससे समाज में बेटीयों के प्रति लगाव बढ़ेगा। हमे बेटीयों के साथ बेटे की तरह व्यवहार करना जरूरी है। उनकी शिक्षा, स्वास्थ्य, पोषण हर तरह का ध्यान रखना चाहिए क्योकि आज की बेटी कल की मां है इसलिए उसके शारीरिक और मानसिक विकास होना अत्यंत आवश्यक है।
वहीं कार्यक्रम में उपस्थित माताओं को बताया गया कि सरकार द्वारा बेटियों हेतु लाड़ली लक्ष्मी योजना, लाड़ो अभियान जैसी कई महत्वपूर्ण योजनाएं चलाई जा रही है। कार्यक्र में पर्यवेक्षक अभिलाषा वास्केल, पवन सोलंकी, आशा ताहेर, लक्ष्मी गामड़, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता विमला तिवारी, पुष्पा कारले, मनू सिंगार आदी मौजुद रही।

Post a comment

 
Top