राजोद। बुराई पर अच्छाई अधर्म पर धर्म असत्य पर सत्य की जीत का पर्व विजयदशमी मंगलवार को उत्साह पूर्वक मनाया गया लोगों ने बुराई के प्रतीक रावण के साथ आज के समाज की बुराई, धुम्र पान, पबजी गेम, टिक टॉक, फेसबुक, वाट्सएप,और अन्य बुराई के पुतले दहन के साथ सामाजिक बुराई को खत्म करने का संकल्प लिया। धार्मिक परंपराओं के बीच नगर के विभिन्न स्थानों पर रावण के पुतले का दहन किय गए। जिससे कि सत्य के प्रतीक भगवान राम ने अहंकारी रावण के पुतले पर अग्नि बाण चलाया। वेसे ही रावण, फेसबुक, वाट्सएप, पबजी, धुम्रपान, टिकटोक, आदि बने रावण के पुतले के साथ आतिशबाजी के धुमधडाके के साथ धु-धु करके जल उठे। रावण दहन का नजारा देखने नगर व सभी स्थानो पर अप्रत्याशित भीड़ उमड़ी, नगर के  चामुण्डा चौक व माँ विश्वेश्वरी माता मंदिर रानीखेडी ,मेन चौक साजोद पर भी उमड़ा जनसैलाब को देख पुलिस प्रशासन मुस्तैद रहा। माँ विश्वेश्वरी माता मंदिर रानीखेडी पर बालिकाओं को इनाम के बाद रावण दहन की बोली लगाईं गइ जो बारह हजार सात सौ इक्कावन रूपये बोली खत्म हुई इसके पश्चात रावण दहन हुआ। समीप के ग्राम साजोद के मेन चौक पर भी रावण दहन हुआ।

Post a Comment

 
Top