भोपाल। राज्यपाल श्री लालजी टंडन ने कहा है कि हिन्दी भाषा और भारत की तस्वीर एक ही है। आजादी की लड़ाई में हिन्दी भाषा की उल्लेखनीय भूमिका रही है। राज्यपाल आज यहाँ हिन्दी भवन में मध्यप्रदेश राष्ट्रभाषा प्रचार समिति द्वारा आयोजित हिन्दीतर भाषी हिन्दी सेवी सम्मान समारोह को संबोधित कर रहे थे। राज्यपाल ने कहा कि हिन्दी की बात करने का यह मतलब नहीं कि हिन्दी को दूसरी भाषाओं पर थोपा जाये। उन्होंने गाँधी जी, स्वामी दयानंद सरस्वती और देश के विभिन्न क्षेत्रों के दूसरी भाषाओं के प्रबुद्धजनों का उल्लेख करते हुए कहा कि मातृ भाषा को सम्मान देते हुए सभी हस्तियों ने राष्ट्रभाषा हिन्दी को सर्वोपरि स्थान दिया। जनसम्पर्क मंत्री श्री शर्मा ने कहा कि गाँधी दर्शन और गाँधी विचार वास्तव में भारतीय समाज के विचार है, भारत का दर्शन है। उन्होंने कहा कि गाँधी जी ने विश्व को शांति और अहिंसा का पाठ पढ़ाया। गाँधी जी की 150वीं जयंती पर संयुक्त राष्ट्र संघ में भी अहिंसा सर्वोपरि विचारों के प्रचार-प्रसार के लिये कार्यक्रम हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि गाँधी जी ने परस्पर सद्भाव और समरसता का दर्शन दिया। श्री शर्मा ने राष्ट्रभाषा प्रचार समिति द्वारा हिन्दी को बढ़ावा देने के लिये निरंतर किये जा रहे प्रयासों की सराहना की। मध्यप्रदेश राष्ट्रभाषा प्रचार समिति द्वारा कार्य-व्यवहार में हिन्दी को अपनाने वाले, बढ़ावा देने वाले गैर हिन्दी सेवियों को सम्मानित किया गया। इस मौके पर समिति के उपाध्यक्ष श्री रघुनंदन शर्मा, संचालक श्री कैलाशचन्द पंत, साहित्यकार और हिन्दी भाषा प्रेमी मौजूद थे।

Post a Comment

 
Top