झाबुआ -काकनवानी। गांव सहित अंचल भर में शारदीय नवरात्र में गरबा रास का उल्लास छाया रहा। नवमी के दिन अनेक घर में कन्या भोज ओर कन्या पूजन के आयोजन हुए। नवमी के दिन प्रतिवर्षनुसार जागरण कर सुबह 3 बजे तक गरबे खेले गए।  दुर्गा बहन, विक्रम भैया, बंटी पंचाल, राहुल पंचाल द्वारा माताजी के गरबे की शानदार प्रस्तुति दी गई। नवरात्री की अष्टमी को शिव मंदिर पर समिति द्वरा यज्ञ किया गया। नवरात्र पारम्भ के दो दिनों तक बारिश के चलते भी भक्तों में कोई कमी नही देखी गई खुली बारिश में भी सिदेश्वर मित्रमंडल के सदस्यों एवम भक्तजनों द्वराजमकर गरबा खेला गया। गरबा पंडाल में आकर्षक विधुत सज्जा के साथ शानदार व्यवस्था की गई
गरबा की रोजाना शानदार प्रस्तुति राजगढ़(धार)से पधारी स्वर कोकिला बहन दुर्गा गामड़ ने अपनी मधुर वाणी में दी। संगीत का साथ देने वाले (आर्केष्ट्रा)लिमडी गुजरात से पधारे बंटी पंचाल (ऑर्गन),विमल देवड़ा फतेपुरा (तबला),अनुज पवार झाबुआ(ढोलक),पीयूष पंचाल काकनवानी(ऑक्टोपड),राजू भाई झालोद(ढोलक), की टीम ने गरबा खेलने वालों का समा बांध दिया। संगीत की आवाज एवं ढोलक तबले  की थाप भक्तजनो ने जमकर गरबा नृत्य कर तालियों की स्वरलहरियां गुंजाई, नवमी की जागरण में समूचा प्रांगण उमंग, जोश, भक्तिभाव से सारोबर हो उठा।  महिलाओं एवं छोटी कन्याओं द्वारा तीन ताली गरबा की भी प्रतिदिन प्रस्तुति दी गई। कार्यक्रम को सफल बनाने में सभी ग्रामवासियों का मुख्य योगदान रहा। साथ ही आयोजक शिव मंदिर समिति एवम सिदेश्वर मित्रमंडल  का परिश्रम काबिले तारीफ रहा।

Post a Comment

 
Top