झाबुआ-पेटलावद। जिले में झाबुआ उपचुनाव को लेकर आचार संहिता लगी हुई है। इस उपचुनाव में दोनों ही पार्टी जी जान के साथ कड़ी मेहनत कर रही हैं। चुनाव के दौरान नेता अपनी अपनी पार्टी की उपब्धियों को गिनाकर मतदाताओं को अपनी ओर आकर्षित करने में कोई कसर नही छोड़ रहें है, तो दूसरी ओर चुनावी सभा मे विवादित बयान भी दे देते है। जिससे पार्टी की क्षवि धूमिल हो जाती है। 

नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव का विवादित बयान -
सोमवार को भाजपा प्रत्याशी भानु भूरिया की नामांकन रैली में भाजपा के पूर्व मुख्यमंत्री सहित कई वरिष्ठ नेताओं ने शामिल होकर स्थानीय राजवाड़ा चोक पर चुनावी आमसभा को सम्बोधित किया।
सभा को सम्बोधित करते हुए गोपाल भार्गव ने कांग्रेस को पाकिस्तान समर्थित पार्टी बताकर विवादित बयान दे दिया, ओर भाजपा के प्रत्याशी को हिंदुस्तान का प्रत्याशी बताया और कांग्रेस के कांतिलाल भूरिया को पाकिस्तान का प्रत्याशी घोषित कर दिया। जिससे राजनीतिक सियासत गरमा गई है। इस बयान के बाद कांग्रेस ने इसकी शिकायत चुनाव आयोग में करते हुए पुलिस में भी एफआईआर दर्ज करवाई है।

कोतवाली में एफआईआर दर्ज-
राजवाड़ा में आयोजित हुई सभा जिसमें 2 बजकर 3 मिनट के भाषण में उन्होंने कांतिलाल भूरिया को पाकिस्तान का उम्मीदवार बताया था।  जिसमे उन्होंने लोक प्रितिनिधित्व अधिनियम की धारा 123, 125 का उलंघन किया तथा इसके साथ ही आईपीसी की धारा 505, 153, 188  धाराओं के उलंघन के साथ ही रिटर्निंग अधिकारी की अनुमति का भी उलंघन किया गया। जिसकी शिकायत पीसीसी ने राज्य निर्वाचन आयोग को शिकायत गई थी। मामले की पूरी जांच के बाद झाबुआ कोतवाली में एफआईआर दर्ज की गई।  नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने यहां तक कहा कि यह चुनाव हिंदुस्तान ओर पाकिस्तान के बीच हो रहा है, ओर भाजपा यह चुनाव हार जाती है तो पाकिस्तान में खुशियां मनाई जाएगी।  एफआईआर दर्ज होने के बाद भाजपा में हलचल मची है।

Post a Comment

 
Top