धार। जिले में लगातार हाईवे पर रापी लगाकर लूट करने वाले गिरोह व फरारी, स्थाई, ईनामी वारंटियों की धरपकड़ हेतु पुलिस अधीक्षक जिला धार  आदित्य प्रताप सिंह ने अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक धार देवेन्द्र पाटीदार के निर्देशन में धार जिलें के समस्त सीएसपी/एसडीओपी, थाना प्रभारीगण के साथ-साथ क्राईम ब्रांच धार प्रभारी को निर्देशित किया था। इसी तारतम्य में क्राईम ब्रांच धार प्रभारी संतोष पाण्डेय को मुखबीर से सूचना मिली कि रोड़ पर कील लगाकर राहगीरों के वाहनों को पंचर कर लूट व डकैती गिरोह के कई वर्षो से फरार ईनामी बदमाश बहादुर पिता स्व. बिलामसिंह अमलीयार निवासी खरबारी थाना तिरला व दिनेश पिता भक्तिया भाभर निवासी जोडवा थाना तिरला, राजगढ़ कस्बे में सषस्त्र होकर अपराध करने की नियत से घूम रहे है। जिन्हे यदि पकड़ा जाए तो अवश्य ही जिलें के हाईवे रोड़ पर रापी लगातार हो रही डकैती व लूट जैसी घटनाओं का खुलासा हो सकता है।

मुखबीर की सूचना महत्वपूर्ण होने से सूचना से वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराया जाकर एसडीओपी सरदारपुर ऐश्वर्य शास्त्री के नेतृत्व में क्राईम ब्रांच प्रभारी संतोष पाण्डेय एवं थाना प्रभारी राजगढ़ लोकेश सिंह भदौरिया को उचित कार्यवाही हेतु निर्देशित किया गया।  क्राईम ब्रांच धार एवं थाना राजगढ़ पुलिस द्वारा संयुक्त कार्यवाही करते हुए राजगढ़ कस्बे से 2 संदिग्ध व्यक्तियों को अलग-अलग स्थान से घेराबंदी कर पकड़ा। पहले व्यक्ति की तलाशी लेते उसके कब्जे से एक लोहे की धारदार तलवार मिली, उस व्यक्ति से उसका नाम पता पूछते उसने अपना नाम बहादुर पिता स्व. बिलामसिंह अमलीयार जाति भील उम्र 30 साल निवासी खरबारी, थाना तिरला जिला धार बताया तथा  दूसरे व्यक्ति की तलाशी लेते उसके कब्जे से एक देशी 12 बोर का कट्टा मय जिंदा कारतूस मिला तथा उस व्यक्ति से नाम पता पूछते उसने अपना नाम दिनेश पिता भक्तिया भाभर जाति भील उम्र 24 साल निवासी ग्राम जोडवा थाना तिरला जिला धार बताया।

 टीम द्वारा दोनो आरोपियों को गिरफ्तार कर थाना राजगढ़ लाया गया। आरोपी बहादुर के विरूद्ध थाना राजगढ़ पर अपराध क्रमांक 442/19 धारा 25(1)(ब) आर्म्स एक्ट व आरोपी दिनेश के विरूद्ध थाना राजगढ़ पर अपराध क्रमांक 443/19 धारा 25(1)(अ), 27 आर्म्स एक्ट का पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।   गिरफ्तार किए गए दोनो आरोपियानो से टीम द्वारा सघन पूछताछ करने पर दोनो ने वर्ष 2013-2014 में अपने अन्य साथियों के साथ मिलकर गिरोह बनाकर तिरला थाना क्षेत्र में इन्दौर-अहमदाबाद हाईवे पर रापी लगाकर डकैती, लूट करना तथा घूमते फिरते रेकी कर थाना तिरला अंतर्गत ही छत्रीपुरा फारेस्ट नाका में एक घर में घुसकर डकैती डालकर माल लूटना व घर में सोये हुए व्यक्तियों के जाग जाने पर उनके साथ मारपीट करना बताया तथा वर्ष 2013-2014 से ही उक्त प्रकरणों में फरार होना बताया।

इन घटनाओ को दिया आरोपियों ने अंजाम 
आरोपियों द्वारा बताई गई घटना की तस्दीक थाना तिरला में कराई गई जिसमे  दिनांक 07.12.2013 को फरियादी पुष्पराज पिता राजेन्द्र सिंह निवासी छत्रीपुरा फारेस्ट नाका ने थाना तिरला आकर रिपोर्ट दर्ज कराई कि दिनांक 06.12.13 की रात्रि करीब 02:30 बजे अज्ञात 10-12 बदमाशो ने फरियादी के घर में घुसकर लूटपाट की एवं परिवार के जागने पर उनके साथ मारपीट की। तथा फरियादी के घर से सोना चॉदी के आभूषण, नगदी व 02 मोबाईल चुराकर ले गए। फरियादी की रिपोर्ट पर से अज्ञात आरोपियों के विरूद्ध थाना तिरला में अपराध क्रमांक 225/13 धारा 457, 382, 395, 397 भादवि का अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया। विवेचना के दौरान थाना तिरला पुलिस द्वारा 07 आरोपियों को गिरफ्तार कर प्रकरण में अन्य फरार आरोपियों की गिरफ्तारी शेष होने से प्रकरण में चालान फरारी में पेश किया गया था। एवं  दिनांक 26.01.2014 को फरियादी जाकिर पिता आबिर खान निवासी अम्बा माता मंदिर, डुंगरपुर(राजस्थान) ने थाना तिरला आकर रिपोर्ट दर्ज कराई कि राजस्थान-इन्दौर के रूट पर बस पर ड्रायवरी का काम करता है, दिनांक 25.01.2014 को रात्रि में अपनी बस में सवारी बिठाकर इन्दौर ले जा रहा था, तो इन्दौर-अहमदाबाद रोड चिकलिया फाटे के पास अज्ञात बदमाशो द्वारा लोहे की किल से रापी लगाकर बस पंचर कर दी। एवं बस में बैठी सवारियों के साथ मारपीट कर सोने-चांदी के जेवरात, मोबाईल, कैमरा व नगदी लूट कर ले गए। फरियादी की रिपोर्ट पर से अज्ञात आरोपियों के विरूद्ध थाना तिरला में अपराध क्रमांक 14/14 धारा 395, 397 भादवि का अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया विवेचना के दौरान थाना तिरला पुलिस द्वारा 09 आरोपियों को गिरफ्तार कर प्रकरण में अन्य फरार आरोपियों की गिरफ्तारी शेष होने से प्रकरण में चालान फरारी में पेश किया गया था।

घटना के बाद से फरार थे आरोपी
आरोपी दिनेश भाभर व बहादुर अमलियार विगत 06 वर्ष से घटना दिनांक से ही फरार चल रहे थे, जिसे पकड़ने हेतु थाना तिरला पुलिस द्वारा हरसंभव प्रयास किया गया, परंतु आरोपीयान शातिर होकर अपने रहने का स्थान बदल रहे थे, जिससे वे दोनो पुलिस की गिरफ्त से बाहर थे। मामले की गंभीरता को देखते हुए अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक, इन्दौर जोन इन्दौर महोदय द्वारा आरोपी दिनेश भाभर की गिरफ्तारी पर 30,000/- रू. व उप पुलिस महानिरीक्षक महोदय, इन्दौर रेंज(ग्रामीण) महोदय द्वारा आरोपी बहादुर अमलियार की गिरफ्तारी पर 20,000/- रू. नगद ईनाम की घोषणा की थी। पकडे गए आरोपियों से धार क्राईम ब्रांच प्रभारी संतोष पाण्डेय, उनि बलजीतसिंह बिसेन, सउनि धीरज सिंह राठौर, प्रआर. रामसिंह गौर, आर. गुलसिंह, राजेश, बलराम, रूपेश, राहुल, प्रशांत, अनिल, कामेश, नवीन, आकाश, कुंदन एवं थाना प्रभारी राजगढ़ लोकेश सिंह भदौरिया, उनि अब्दुक जाकीर खान, प्रआर. दिवाकर सिंह बैस द्वारा लगातार पूछताछ की जा रही है। जिनसे और भी कई बडी रापी लगाकर डकैती, लूट जैसी घटनाओ का खुलासा होने की पूर्ण संभावना है।

Post a Comment

 
Top