बामनिया। अपार आस्था और श्रद्धा से ओत-प्रोत नगरवासी इन दिनों उत्साह व उमंग के साथ माँ दुर्गा की आराधना में तल्लीन दिखाई दे रहे हैं। जहाँ सुबह-शाम माता के दर्शन कर जयघोष लगाए जा रहे हैं, वहीं देर रात्रि तक धार्मिक गीतों पर गरबा रास से माता की भक्ति की जा रही है। नगर के अम्बिका माता मंदिर एवं श्री राम मंदिर पर के गरबा पंडालो में जबरदस्त भीड़ देखी गई। गरबा अब पूरे शबाब में आ चुके हैं। विभिन्ना गरबों मंडलों पर देर रात तक गरबों के आयोजन शुरू हो चुके हैं। रंग-बिरंगे परिधानों में थिरकते युवक-युवतियों को देखना काफी मनमोहक लगता है। बच्चे भी भला कहाँ पीछे रहने वाले, इसीलिए प्रस्तुतियों की शुरुआत उन्हीं से होती है। अम्बिका माता मंदिर पर नवयुवक नवदुर्गा मोहत्सव के तत्वावधान में 70 वा आयोजन के अंतर्गत बहुत ही रंगा रंग एवं आकर्षक गरबा आयोजन हो रहा है । गरबा में छोटे बच्चों द्वारा भी बड़ चढ़कर भाग लिया जा रहा है नंन्हे मुन्हे बच्चे आकर्षक वेशभूषा में नजर आ रहे हैं।
प्रसिद्ध आर्केस्ट्रा दे रही प्रस्तुतियां -
अम्बिका चोक पर गरबा रास में स्पष्ट रूप से गुजराती रंग छाया हुआ नजर आ रहा है। प्रमुख गरबा स्थल अम्बिका चोक पर रतलाम के आर्केस्ट्रा द्वारा प्रतिदिन एक से बढ़ कर एक गरबो की प्रस्तुति दी जा रही। गुजराती गरबे जब वे गाए जाते हैं तो पांडाल में मौजूद गरबा खेलने वाले झूम उठते हैं। यहां दो ताली गरबा एवं तीन ताली गरबा पारम्परिक डांडिया, डांडिया रास का भरपूर आनंद लिया जाता है। महिलाओं द्वारा नित ड्रेस कोड दिया जाता है । उसी थीम पर पारम्परिक परिवेश में गरबा रास किया जाता है।राजेस्थानी,गुजराती महाराष्ट्र की थीम पर महिलाएं साड़ी में तथा बालिकाएं कुर्ता पायजामा ओर सिर पर सफेद टोपी पहने गरबा नृत्य कर रही थी।
नगर के श्री राम मंदिर पंडाल पर भी गरबा रास करने वालों की अच्छी भीड़ रही। यहाँ भी माँ की आराधना करने वालो की भीड़ थी । देर तक गरबा रास चला साथ ही बड़े-बुजुर्ग भी काफी देर तक गरबा नृत्य का आनंद लेते दिखाई दिए। आर्केस्ट्रा द्वारा प्रस्तुत किए जा रहे गरबा गीतों पर युवक-युवतियाँ काफी उत्साहित होकर गरबा रास कर रही थीं। प्रतिदिन माताजी एवं श्री भेरूजी का आकर्षक श्रंगार किया जा रहा है। आसपास के ग्रामीणजन भी परिवार सहित गरबा रास का आनंद लेने बामनिया पहुच रहे हैं।

Post a Comment

 
Top